Search This Blog

Tuesday, 4 April 2017

तहरीरैं बेजुबान

दिन आजकल धूप से परेशान मिलती है,
साँवली शाम ऊँघती बहुत हैरान मिलती है।

रात के दामन पर सलवटें कम ही पड़ती है ,
टोहती चाँदनी से अजनबी पहचान मिलती है।

स्याह आसमां पर सितारे नज़्म बुनते है जब,
चाँद की वादियों में तहरीरें बेजुबान मिलती है।

दिल भटकता है जिन ख्वाहिशों के जंगल  में,
ठूँठ झाड़ियों में लटकी हसरतें वीरान मिलती है।

अधजले चाँद के टुकड़े में लिपटे अनमने बादल,
जलती बेचैनियों से रात भी शमशान मिलती है।

           #श्वेता🍁