Search This Blog

Thursday, 4 May 2017

तुम बिन

जलते दोपहर का मौन
अनायास ही उतर आया
भर गया कोना कोना
मन के शांत गलियारे का
कसकर बंद तो किये थे
दरवाज़े मन के,
फिर भी ये धूप अंदर तक
आकर जला रही है
एक नन्ही गौरेया सी
पीपल की छाँव से पृथक
घर के रोशनदान में
एक एक तिनके बटोर कर
छोटा सा आशियां बनाने
को मशगूल हो जैसे
जिद्दी और कही जाती ही नहीं,
उड़ के वापस आ जाती है
बस तुम्हारे ख्याल जैसे ही,
सोच के असंख्य उलझे
धागों में तुम्हारे ही अक्स
बार बार झटक तो रही हूँ
पर देखो न हर सिरा
तुम से शुरू होकर तुम पर
ही टिका हुआ है।
हर वो शब्द जो तुम कह गये
बार बार मन दुहरा रहा
मैं बाध्य तो नहीं तुम्हें सोचने को
पर तुम जैसे बाध्य कर रहे हो
मन का पंछी उड़कर कहीं
नहीं जा पा रहा,लौट रहा रह रह के
थक सी गयी विचारों के द्वंद्व से,
कुछ नहीं बदलता अन्तर्मन में
अनवरत विचार मग्न मन
अपना सुख जिसमें पाता
चाहो न चाहो बस वही सोचता है
सही-गलत ,सीमा- वर्जनाएँ
कहाँ मानता है मन का पंछी
तुम्हारे मौन से उद्वेलित,बेचैन
मन बहुत उदास है आज।

      #श्वेता🍁