Pages

रविवार, 10 मई 2020

क्यों नहीं लिखते...


हे, कवि!
तुम्हारी संवेदनशील
बुद्धि के तूणीर में
हैं अचूक तीर
साहसी योद्धा,
भावनाओं के
रथ पर सज्ज
साधते हो नित्य
दृश्यमान लक्षित सत्य, 
भेद्य,दुर्ग प्राचीर!!

हे,अजेय सिपाही,

तुम सच्चे शूरवीर हो!
यूँ निर्दयी न बनो
लेखनी से अपनी
निकाल फेंको
नकारात्मकता की स्याही
अवरुद्ध कर दो 
नोंक से बहते
व्यथाओं के निर्मम गान।

ओ जादुई चितेरे 
तुम्हारी बनायी
तूलिका से चित्र
जीवित हो जाते हैं!
अपनी भविष्यद्रष्टा
लेखनी से
बदल डालो न
संसार की विसंगतियों को,
अपने अमोघास्त्र से
तुम क्यों नहीं
लिखते हो...
निरीह,बेबस,दुखियों,
निर्धनों के लिए
खिलखिलाते,
फलते-फूलते,सुखद
आनंददायक स्वप्न।

©श्वेता सिन्हा




48 टिप्‍पणियां:

  1. लेखनी से अपनी
    निकाल फेंको
    नकारात्मकता की स्याही

    बहुत मुश्किल है :)

    सुन्दर रचना।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. मुश्किल है नामुमकिन नहीं है न सर:)
      बहुत बहुत आभारी हूँ सर।
      प्रणाम सर
      सादर

      हटाएं
    2. @सुशील कुमार जोशी
      तो कम से कम अपनी दवात में
      भर लो
      सकारात्मकता की स्याही!😀

      हटाएं
    3. जी,सादर प्रणाम विश्वमोहन जी।
      आपकी उपस्थिति के लिए आभारी हूँ।
      सादर।

      हटाएं
    4. जी श्वेता जी है तो मुमकिन है तो है ना आशावाद जिंदाबाद।
      विश्वमोहन जी आभार पर आप भी फूटी दवात वालों को राय दे रहे हैं :) :)

      हटाएं
    5. जी सर बहुत बहुत आभार।
      सादर।

      हटाएं
  2. " साधते हो नित्य
    दृश्यमान लक्षित सत्य " -
    ये वाला वर्ग जो निर्धनों की पीड़ा उकेरता है और एक कुशल चितेरा का भान लिए अपनी गर्दन अकड़ाता है और आपकी नसीहत की भाषा में कहे तो उसे -
    " लेखनी से अपनी
    निकाल फेंको
    नकारात्मकता की स्याही " -
    इस तरह की नकारात्मक चित्र नहीं उकेरने चाहिए, बल्कि उन्हें -
    " तुम क्यों नहीं
    लिखते हो... "
    वाली नसीहत के अनुसार -
    "खिलखिलाते,
    फलते-फूलते,सुखद
    आनंददायक स्वप्न " - बुनने चाहिए।
    पर मेरा मानना है कि हालात, वक्त के मारे या अपने वर्त्तमान कर्मों या फिर तथाकथित ब्राह्मणों की माने तो अपने पूर्व जन्म की कर्म-कमाई भोगने वाले बेचारे "निरीह,बेबस,दुखियों,निर्धनों के लिए" तो ये दोनों ही छल है।
    ना तो उन चितेरों की नकारात्मता की शोर उन तक पहुँच पाती है और ना ही किसी सकारात्मकता के सपने।
    दोनों ही उनके भविष्य को "सुखद और आनन्ददायक" नहीं बना पाते शायद ... इसीलिए मेरा मानना है कि -

    हे कवि !
    निकलो अपने ही शहर में,
    कम से कम अपने मुहल्लों में
    भर दो पेट एक भी मजबूर परिवार का
    जो तुम्हारी हजार सकारात्मक
    या नकारात्मक लेखनी से
    लाख गुणा बेहतर है ..

    तो उठो ना कवि !
    पटको अपनी लेखनी
    उठा लो बस चन्द रोटियों की पोटली
    निकल पड़ो और कहीं दूर नहीं तो
    अपने ही आस-पड़ोस में, मोहल्ले में ...
    कब तक भला लेखनी के भुलावे
    परोसते रहोगे निरीह,बेबस,दुखियों,निर्धनों के लिए ...
    जरुरत नहीं उन्हें तुम्हारी कोरी शब्दों वाली सहानुभूति की
    बस .. एक बार समानुभूति में तो भींजो
    बस एक बार .. आज , अभी ही भींजो
    आज, अभी ही भींजोगे ना कवि ?
    बोलो ना कवि ...

    ( एक ऊटपटाँग प्रतिक्रिया के लिए क्षमाप्रार्थी 🙏 ...)

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. जी नमस्कार,
      आपके विचारों का स्वागत है।
      प्रतिक्रिया.स्वरूप बहुत सुंदर रचना लिखी है आपने।
      अलग-अलग भाव और विचारों से युक्त लेखनी से सृजन करना क़लम के चितरों की रचनात्मकता है।
      माना समय और परिस्थितियों के अनुरूप हम सुविधासंपन्न हैं अपने जीवन में,
      उन निरीह बेबस दुखियों निर्धनों की तरह नहीं जी रहे हैं, हम जिनके लिए लिख रहे हैं वो लोग पढ़ते भी नहीं, तो क्या करें सारी सुविधाओं को त्यागकर उनके साथ जाकर रहें तभी लिखना सार्थक होगा क्या??
      क़लम जो उनकी बेबसी की अनुभूति को रच रही है वह निरर्थक है ??
      समाज तो हमसे हैं न हमारे शरीर के आँख,नाक,कान,
      पेट की तरह ही तो अगर शरीर के किसी अंग में पीड़ा हो तो उसके इलाज़ का यथाशक्ति करते हैं किंतु दूसरा स्वस्थ अंग भी उसके साथ बीमार हो जाये क्या?
      ऐसा तो नहीं न कि उस अंग की पीड़ा शरीर को नहीं महसूस हो रही है। उस पीड़ा के साथ जीना पड़ता है यही असमानता सृष्टि एवं जीवन का आधार है।
      मेरा कहना मात्र इतना है कि हर बात में नकारात्मकता बाँचना आसान है परंतु सकारात्मकता का संचार ही पीड़ाओं से मुक्त होने का एकमात्र उपाय है।
      स्वस्थ विमर्श में क्षमा जैसे शब्दों का प्रयोग कृपया न करें।
      आपका बहुत शुक्रिया।

      हटाएं
    2. साथ रहने की चर्चा तो हमने एक बार भी नहीं किया है महोदया।
      कृपया ध्यान से पढ़ें। मैंने कहा है कि हम उनकी मदद करें धरातल पर उतर कर। शब्दों में नहीं।
      अलग से मदद करना और साथ रहना एक ही होता है क्या ???
      किसी को कोई भी सन्देश देने के पहले स्वयं उपमा बनने की कोशिश करनी चाहिए। बस इतना भर ही कहा मैंने।
      जैसे आपको नकारात्मक लेखनी नागवार गुजर रही, वैसे ही किसी को नागवार गुजर समति है ये .. सकारात्मक ही सही पर हवाई और शाब्दिक सपने .. बेचारे "निरीह,बेबस,दुखियों,निर्धनों के लिए" ...

      सबके अपने विचार, सबकी अपनी-अपनी धारणा है, तभी तो दुनिया रंगीन है ...

      हटाएं
    3. तभी तो दुनियाँ रंंगीन है। सहमत।

      हटाएं
    4. जी सुबोध सर जी आपके विचारों का स्वागत है।
      मेरी रचना का आशय स्पष्ट हुआ या नहीं मुझे नहीं ज्ञात किंतु अपनी समझ के अनुरूप संदेश देते रहना ही मेरी लेखनी की सार्थकता है।
      आपकी बहुमूल्य प्रतिक्रियाओं से मेरी रचना का सम्मान मिला और मेरे विचारों को संबल।
      बहुत आभारी हूँ।

      हटाएं
    5. जी महोदया ! बेशक़ आपकी रचना को सम्मान मिला होगा और आपके विचारों को सम्बल पर ... बेचारे "निरीह,बेबस,दुखियों,निर्धनों के लिए" ...अन्ततः जीरो बटा सन्नाटा ...😃😃😃

      हटाएं
    6. जी,
      सहमत हैं मेरे लिखने से उनकी तक़लीफ़ कम या ज्यादा नहीं हो सकती है।
      हम लेखनी से ऊर्जा का संचार करने का और संवेदना जगाने का प्रयास भर ही कर सकते हैं।
      चर्चा म़े सार्थक विचार मंथन को प्रेरित करने हेतु।
      बहुत शुक्रिया आपका।

      हटाएं
  3. आपकी लिखी रचना "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" आज सोमवार 11 मई 2020 को साझा की गई है.... "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. बहुत-बहुत आभारी हूँ दी।
      आपका अतुल्य स्नेह और आशीष बहुमूल्य है।
      सादर।

      हटाएं
  4. क्यों नहीं लिखते लाचारों के लिए सुखद ,फलते -फूलते स्वप्न ..भई वाह!!श्वेता ..अद्भुत!

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. जी बहुत बहुत आभारी हूँ दी।
      सस्नेह शुक्रिया।
      सादर।

      हटाएं
  5. सुन्दर रचना।
    सभी कलम के सिपाहियों को प्रणाम।

    जवाब देंहटाएं
  6. सकारात्मकता की और सार्थक कदम,माना कवि या साहित्यकार का लिखा किसा की भूख नहीं मिटा सकता,माना वो पढ़ता भी नहीं,पर रचनाकार एक पीड़ा को कम करती उर्जा बांटने का प्रयासज्ञतो कर सकता है पढ़ने वालों को तो संकेत दे सकता है कि उनका भी दायित्व है उस वर्ग को कुछ खुशियां बांट आए।
    श्वेता बहुत सार्थक लेखन ।
    एक कवि की अपनी दृष्टि होती है उसके पीछे करता करता भाव होते हैं ये सदा पढ़ने वाला पूरा समझ लें संभव नहीं, फिर भी आपके भावों को मैंने महसूस किया है, इस लिए लेखन को सार्थक मानती हूं ।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. जी दी प्रणाम।
      आपकी सार्थक विश्लेषणात्मक प्रतिक्रिया पाकर मनोबल को संबल मिला।
      सादर आभार।
      सस्नेह
      शुक्रिया दी।

      हटाएं
  7. काश शब्दों के चितेरे समय बदल पाते ... पर हर किसी को ये सुख नहीं मिलता ...
    बहुत प्रभावी लेखनी ...

    जवाब देंहटाएं
  8. प्रिय श्वेता , सार्थक रचना जो चिंतन को प्रेरित करती है। रचना के समानांतर विषय वस्तु पर विचार विमर्श रचना की सार्थकता बढ़ा रहा है। मुझे लगता है , कवि कुछ भी बदलने में शायद सक्षम नही , पर मानव मन में सुप्त संवेदनाएं जगाने में वह अहंम भूमिका निभा सकता है । सार्थक रचना के लिए शुभकामनायें।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आभारी हूँँ दी आपके विमर्श से

      "कवि कुछ भी बदलने में शायद सक्षम नही , पर मानव मन में सुप्त संवेदनाएं जगाने में वह अहंम भूमिका निभा सकता है ।"

      रचना के दृष्टिकोण और सकारात्मकता का समर्थन
      मिला।
      सस्नेह शुक्रिया दी।
      सादर।

      हटाएं
    2. हाँ प्रिय रेणु, पर अब तो ऐसा लग रहा है जैसे संवेदनाएँ सो नहीं, मर गई हैं।

      हटाएं
  9. बहुत ही सकारात्मक सोच इसी सोच को कायम रखना है भले ही हमारी कलम वर्तमान परिस्थितियों के सामने चूक जाएं... लेकिन दिल दिमाग के अंदर तिरोहित हो रहे चिंतन को यूंही जाया नहीं कर सकते हैं... एक कवि कहूं या लेखक उसके पास ही तो उसकी ताकत उसकी लेखनी होती है अगर वही सूस्त पड़ जाए तो समाज में हो रहे बदलाव.. कौन लिखेगा और आने वाली पीढ़ियां हमारे आज के वर्तमान के सच को शायद कभी जान ही नहीं पाएगी...।
    आप हमेशा अनदेखी किए जा रहे विषयों पर भी बहुत गंभीर लिखती हैं ..यह आप की लेखनी की बहुत बड़ी खासियत है लिखते रहा कीजिए दी..। और ढेर सारी शुभकामनाएं..।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सही कहा अनु आने वालवाली पीढ़ियाँ जब इस दौर को पढ़ेगी तो कुछ सार्थक ऊर्जात्मक अनुभूति कर पायें कदाचित्।
      तुम्हारे स्नेहिल प्रतिक्रिया का बहुत बहुत आभार अन्नू।
      शुक्रिया
      सस्नेह।

      हटाएं
  10. हे, कवि!
    तुम्हारी संवेदनशील
    बुद्धि के तरकश में
    हैं अचूक तूणीर
    साहसी योद्धा,
    भावनाओं के
    रथ पर सज्ज
    साधते हो नित्य
    दृश्यमान लक्षित सत्य,
    भेद्य,दुर्ग प्राचीर!!

    शुद्ध परिष्कृत हिन्दी एवं ुचित स्थान पर संस्कृत के भी तत्सम शब्दों का प्रयोग करके आपने अपनी रचना को बहुत उत्कृष्ट बना लिया है । बहुत ही सुंदर रचना ।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपका स्वागत है आदरणीय।
      सुंदर प्रतिक्रिया के लिए बहुत बहुत आभार।
      सादर।

      हटाएं
  11. लेखनी से अपनी
    निकाल फेंको
    नकारात्मकता की स्याही !!!
    प्रिय श्वेता,
    आपका आह्वान उचित है,आपकी रचना बहुत उत्कृष्ट है पर मेरे जैसे लोग क्या करें, कैसे लिखें? आज जो माहौल अपने चारों ओर देख रही हूँ उसमें मेरी लेखनी धर्मसंकट में पड़ जाती है। नकारात्मक लिखना नहीं है, सकारात्मक क्या लिखूँ,कैसे लिखूँ ? कृत्रिम लगेगा,असत्य लगेगा,अवास्तविक लगेगा इस माहौल में !!! शायद इसी स्थिति को किंकर्तव्यविमूढ़ कहते हैं!!!

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. जी दी,
      वर्तमान परिस्थितिजन्य माहौल से व्यथित मन के भाव निराशा से भरे हैं सहमत हूँ किंतु दी जब अंधकार घना होता है तभी एक नन्ही सी किरण की आवश्यकता होती है ऐसा मेरा मानना है।
      इस दौर का सत्य उकेरना क़लमकारों का कर्त्तव्य है तो क्या इस किंकर्तव्यविमूढ़ परिस्थितियों से जूझने के लिए राह बनाने के लिए जो हिम्मत चाहिए उसके लिए सकारात्मकता भरना हम छोड़ दें दी??

      आपकी प्रतिक्रिया की सदैव प्रतीक्षा रहती है दी।
      सस्नेह शुक्रिया बेहद आभार आपका।
      सादर

      हटाएं
  12. कवि से आह्वान करती विचारशील रचना जो सकारात्मक विचारों के सृजन को प्रधानता देती है. नकारात्मक सोच स्वतः विकसित होती जबकि सकारात्मक सोच के लिए चिंतन-मनन की लंबी प्रक्रिया से गुज़रना पड़ता है.
    बहुत सुंदर सृजन है आपका प्रिय श्वेता दीदी.

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आभारी हूँ प्रिय अनु।
      विषयांतर सकारात्मकता और नकारात्मकता ही किसी भी व्यक्ति को जीवन के प्रति उचित दृष्टिकोण प्रदान करता है।
      सस्नेह शुक्रिया।

      हटाएं
  13. नकारात्मक लिखना और सत्य लिखना दोनों में अंतर है।सत्य भी कई बार नकारात्मक लगने लगता है क्योंकि मन को पसंद नहीं आता। किंतु सकारात्मक लिखने के लिए सत्य से भागा नहीं जा सकता। उसका सामना करना पड़ता है।
    जब बात उठती है संवेदनशीलता की तो आज के परिदृश्य में वह शब्द तकरीबन नदारद सा हो गया है।मानव के भीतर की संवेदना आज अंतिम साँसे गिन रही है । परंतु कवि का सकारात्मक आह्वान अवश्य ही इस मरती संवेदना के लिए अमृत का काम कर सकता है।
    प्रिय श्वेता एक उत्कृष्ट रचना के लिए तुम्हें ढेरों बधाइयाँ।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. जी दी,
      सत्य और सकारात्मकता का उचित विश्लेषण कर आपने मेरे विचारो़ को दृढ़ता प्रदान की।
      किंतु दी संवेदनशीलता की मात्रा भले थोड़ी कम हो गयी हो किंतु पूरी तरह नष्ट नहीं हुई है।
      बहुत-बहुत आभारी हूँ।
      सस्नेह शुक्रिया।
      सादर।

      हटाएं
  14. जहाँ तक मैंने अभी तक पढ़ा हैं और जाना हैं - "कवियों की सकारात्मक लेखनी ने कई बार चमत्कार किए "समय समय पर बिपरीत परस्थितियों में लेखनी ने ढाढ़स बढ़ाने का काम किया हैं,नई ऊर्जा का संचार किया हैं और आज भी वो कर सकते हैं। आपकी सकारात्मक आह्वान जरूर अपना असर छोड़ेगी यही कामना हैं। बहुत ही सुंदर विचारणीय सृजन श्वेता जी

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. जी कामिनी जी,
      पूर्ण रुप से सहमत हूँ और अपने दायित्वों के प्रति अपने बुद्धिनुरूप सजग भी रहने का प्रयत्न कर रही हूँ।
      आपकी समर्थित प्रतिक्रिया ने मनोबर में अतिशय वृद्धि की।
      सस्नेह शुक्रिया।
      सादर।

      हटाएं
  15. मनुष्य जो सोचता है,वही लेखनी कहती है, अपने चिंतन में किसी की अहित ना हो कर्म से या अविश्वास की भावना से,आपकी रचना बहुत ही सुन्दर खूबसूरत है

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. जी भारती जी,
      बहुत सुंदर बात कही आपने और सहमत हैं हम।
      आपका स्वागत है।
      बहुत आभार आपका।
      शुक्रिया
      सादर।

      हटाएं
  16. आदरणीय / आदरणीया आपके द्वारा 'सृजित' रचना ''लोकतंत्र'' संवाद मंच( सामूहिक भाव संस्कार संगम -- सबरंग क्षितिज [ पुस्तक समीक्षा ])पर 13 मई २०२० को साप्ताहिक 'बुधवारीय' अंक में लिंक की गई है। आमंत्रण में आपको 'लोकतंत्र' संवाद मंच की ओर से शुभकामनाएं और टिप्पणी दोनों समाहित हैं। अतः आप सादर आमंत्रित हैं। धन्यवाद "एकलव्य"
    https://loktantrasanvad.blogspot.com/2020/05/blog-post_12.html
    https://loktantrasanvad.blogspot.in

    टीपें : अब "लोकतंत्र" संवाद मंच प्रत्येक 'बुधवार, सप्ताहभर की श्रेष्ठ रचनाओं के साथ आप सभी के समक्ष उपस्थित होगा। रचनाओं के लिंक्स सप्ताहभर मुख्य पृष्ठ पर वाचन हेतु उपलब्ध रहेंगे।


    आवश्यक सूचना : रचनाएं लिंक करने का उद्देश्य रचनाकार की मौलिकता का हनन करना कदापि नहीं हैं बल्कि उसके ब्लॉग तक साहित्य प्रेमियों को निर्बाध पहुँचाना है ताकि उक्त लेखक और उसकी रचनाधर्मिता से पाठक स्वयं परिचित हो सके, यही हमारा प्रयास है। यह कोई व्यवसायिक कार्य नहीं है बल्कि साहित्य के प्रति हमारा समर्पण है। सादर 'एकलव्य'

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. बहुत आभारी हूँ ध्रुव जी।
      आपके मान के लिए शुक्रिया।
      सादर।

      हटाएं
  17. हे,अजेय सिपाही,
    तुम सच्चे शूरवीर हो!
    यूँ निर्दयी न बनो
    लेखनी से अपनी
    निकाल फेंको
    नकारात्मकता की स्याही
    अवरुद्ध कर दो
    नोंक से बहते
    व्यथाओं के निर्मम गान।
    वाह!!!!
    सकारात्मकता का आवाहन!!!
    मैंने बड़ों से सुना है जैसे ध्यायेंगे वैसा पायेंगे यही जग की रीत है ....
    नकारात्मकता है जरूर है पर उसी का ध्यान क्यों
    सकारात्मकता का ध्यान करेंगें तो सकारात्मकता आयेगी जरूर आयेगी....
    हमेशा की तरह बहुत ही उत्कृष्ट सृजन
    बहुत बहुत बधाई आपको।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सहमत है सुधा जी आपने मेरे मन की बात कही नकारात्मक और सकारात्मक में चुनाव हम सकारात्मक का क्यों न करें।
      आपकी प्रतिक्रिया ने रचना को सार्थकता प्रदान की।
      सस्नेह शुक्रिया।
      सादर।

      हटाएं
  18. तुम क्यों नहीं
    लिखते हो...
    निरीह,बेबस,दुखियों,
    निर्धनों के लिए
    खिलखिलाते,
    फलते-फूलते,सुखद
    आनंददायक स्वप्न।
    वाह बेहतरीन रचना श्वेता जी

    जवाब देंहटाएं
  19. सामाजिक कार्य में व्यवस्था के कारण आजकल कौन क्या लिख रहा है कोई भान नहीं मुझे।
    अब थोड़ा 4-5 दिनों के लिए खुद के लिए रेस्ट रखा है
    तो पढ़ेंगे आपको।
    ये रचना पढ़ी है...
    एक सिक्के के दोनों पहलू बहुत जरूरी है।
    समाज और राजनीति में फैली नकारात्मकता को सकारात्मक बनाकर लिखने में हम किसके दुश्मन बन जाएंगे?
    किसका भला कर पाएंगे?
    और क्या हमें गन्दगी को मखमली कपड़े से ढक देने से सच्ची सन्तुष्टि मिल सकती है?
    सोचे, मनन करें और उत्तर मिले तो उसकी गांठ बांध लीजिएगा।
    अब बना कर, सज़ा कर पेश करने की बजाए लोग सचा लिखे
    जैसा है वैसा लिखे
    ऐसा करने से ही हमारे तीर अचूक हो सकते हैं।
    वरना हम चूक कर जाएंगे।
    इस रचना में कवि को परमेश्वर से मानवीकरण बिठा दिया जाए तो बात अलग हो जाएगी।
    😂
    अपना व अपने परिवार का ध्यान रखें।
    सुरक्षित रहें।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. जी रोहित जी,
      आपकी सारी बातों से सहमत है किंतु हम तो ये नहीं कह रहे कि सच मत लिखो राजनीति या समाज का कुरूप चेहरा बेनकाब मत करो।
      हम बस इतना संदेश दे रहे हैं कि ऐसी भविष्यवाणी न लिखो जो सच हो जाते है। जिस सच से नकारात्मक फैले मनोबल टूट जाये और आस का हर दीप बुझ जाये उसे लिखकर आप या हम समाज का क्या भला कर पायेंगे?
      अपनी पीढ़ियों के मन में कटुता के बीज बोकर विषैले वृक्षों की छाँव में कैसे सुकून की छाया
      में रह पायेंगे।
      नकारात्मकता उतनी ही लिखनी चाहिए न जिसे पढ़कर मन में बदलाव की चाह पैदा हो नफ़रत का स्याह अंधेरा नहीं वरना सकारात्मकता साँस ले सकेगी क्या???

      आपकी प्रतिक्रिया ने मुझे मेरी रचना के भाव.स्पष्ट करने का अवसर दिया।

      आपका बहुत आभार।
      सादर शुक्रिया।

      हटाएं

आपकी लिखी प्रतिक्रियाएँ मेरी लेखनी की ऊर्जा है।
शुक्रिया।