Wednesday, 17 January 2018

बवाल



खुल के कह दी बात दिल की तो बवाल
लिख दिये जो ख़्वाब दिल के तो बवाल
इधर-उधर से ढ़ूँढते हो रोज़ क़िस्से इश्क़ के
हमने लफ़्ज़ों में बयां की मोहब्बत तो बवाल

देखकर आँखें झुका ली अदब से तो बवा
नज़रें मिलाई और हँस के चल दी तो बवाल
भावों से वो खेलते है फ़र्क़ क्या किसी दर्द का
हमने आईना दिखाया हो गया फिर तो बवाल

स्याही ख़ून में डुबोकर लिख दिया तो बवाल
कभी माटी कभी मौसम के रंग दिया तो बवाल
न ख़बर मैं क्या हूँ, वो कहे मेरे लिए अख़बार में
हमने चुप्पी साध ली हर बात पर तो है बवाल

ज़िंदगी की दौड़ में तुम रूको न चलो तो बवाल
मन मुताबिक पल जो चाहा न मिले तो बवाल
वो सजाये महफिलें और कहकहे हों बे-तुकें
हमने बस था मुस्कुराया एक जरा तो बवाल

      #श्वेता🍁

52 comments:

  1. बवाल का कमाल का प्रयोग रचना के कथ्य के साथ
    शानदार रचना के लिए बधाई
    सादर

    ReplyDelete
    Replies
    1. अति आभार आपका आदरणीय, आपके आशीर्वचनों से मन प्रसन्न हुआ। सादर आभार।

      Delete
  2. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 18-01-2018 को चर्चा मंच पर चर्चा - 2852 में दिया जाएगा

    धन्यवाद

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी बहुत आभार आपका आदरणीय।

      Delete
  3. Replies
    1. बहुत आभार आपका लोकेश जी।

      Delete
  4. वाह!!श्वेता ,बहुत खूबसूरत लिखा .....

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभार आपका बहुत सारा शुभा दी।

      Delete
  5. अब कुछ लिखें तो भी बवाल, न लिखें तो भी बवाल. बस केवल... कमाल !

    ReplyDelete
    Replies
    1. हदय से अति आभार आपका विश्वमोहन जी।आपकी सराहना सदैव विशेष है।

      Delete
  6. वाह ! क्या बात है ! बहुत ही खूबसूरत रचना की प्रस्तुति हुई है । बहुत सुंदर आदरणीया ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार आपका सर,तहेदिल से शुक्रिया आपका।

      Delete

  7. खुल के कह दी बात दिल की तो बवाल
    लिख दिये जो ख़्वाब दिल के तो बवाल
    इधर-उधर से ढ़ूँढते हो रोज़ क़िस्से इश्क़ के
    हमने लफ़्ज़ों में बयां की मोहब्बत तो बवाल
    ...बिल्कुल सही कहा आपने! यही तो बवाल है कि खुल के क्युँ कहा? मन की मन में ही रखते तो लोग न हसते!
    सुंदर रचना। बवाली बधाई आदरणीय श्वेता जी।

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी बहुत-बहुत आभार ,तहेदिल से शुक्रिया आपका बहुत सारा आपके इस सुंदर सराहना के लिए आदरणीय p.k ji.

      Delete
  8. वाहह.. बहुत सुंंदर रचना
    हर शब्दों में बवाल 👌

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार,तहेदिल से शुक्रिया आपका पम्मी जी।

      Delete
  9. 'भावों से वो खेलते है फ़र्क़ क्या किसी दर्द का
    हमने आईना दिखाया हो गया फिर तो बवाल'
    बेहतरीन रचना श्वेता जी👌👌

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार आपका मीना जी,तहेदिल से शुक्रिया।

      Delete
  10. Replies
    1. बहुत आभार सर आपका।

      Delete
  11. लिखें तो बवाल न लिखें तो बवाल...शब्दों का बवाल पसंद आया श्वेता जी

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार आपका संजय जी तहेदिल से शुक्रिया आपका।

      Delete
  12. बवाल पर बवाल...
    पसंद आया..
    सादर...

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार आपका आदरणीय सर,तहेदिल से शुक्रिया।

      Delete
  13. स्वेता की पोस्ट पर टिप्पणी न की तो बवाल!हा.. हा... हा...

    ReplyDelete
    Replies
    1. हा हा हा...बिल्कुल ज्योति दी आपको तो आना ही होगा मेरी पोस्ट पर। आभार आपका बहुत सारा:)

      Delete
  14. Replies
    1. बहुत बहुत आभार आपका रश्मि जी,आपकी प्रतिक्रिया मेरी रचना पर पुरस्कार से कम नहीं,कृपया आते रहें।

      Delete

  15. बवाल पे कमाल रचना !!!!!!!! प्रिय श्वेता जी बहुत खूब !!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत आभार रेणु जी,तहेदिल से शुक्रिया आपका।

      Delete
  16. वबाल और बवाल को लेकर ब्लॉग जगत में चर्चा गर्म है जब से बल्ग "पाँच लिंकों का आनन्द" की ओर से हम-क़दम-2 में यह बिषय घोषित किया गया रचनाकारों से रचनाएं आमंत्रित करने हेतु.
    तमाम उपलब्ध साधनों की पड़ताल से पता चला कि "वबाल" शब्द मूलतः अरबी भाषा का शब्द है जोकि उर्दू भाषा में प्रयुक्त हो रहा है.
    दूसरा शब्द "बवाल" एक देशज शब्द है जोकि स्थानीय प्रभाव से उत्पन्न हुआ है और देशज शब्दों की उत्पत्ति का इतिहास अज्ञात होता है ( जैसे लोटा, लड़का,खिड़की आदि).
    कुछ विदेशज शब्द जिन्हें आगत शब्द भी रहते हैं जैसे कागज़ (अरबी), ज़िंदगी (फ़ारसी), बाल्टी (पुर्तगाली), चम्मच(तुर्की), अपील (अँग्रेज़ी) हम रोज़ाना प्रयोग में लाते हैं लेकिन इनके उद्गम की चिंता नहीं करते हैं.
    कुछ संकर ( दो भाषाओं के शब्दों से मिलकर बना नया शब्द) देखिये- रेल(अँग्रेज़ी)+ गाड़ी(हिन्दी)= रेलगाड़ी, छाया(संस्कृत)+दार(फ़ारसी)= छायादार.
    तत्सम से तद्भव में परिवर्तन का एक नियम है कि "व" तत्सम शब्द से तद्भव शब्द बनने पर "ब" हो जाता है यह नियम संस्कृत भाषा से हिन्दी भाषा में आये नियमों पर लागू होता है लेकिन वबाल शब्द पर लागू नहीं होता क्योंकि वह अरबी का मूल शब्द है. उदाहरण- वर्षा= बरसात, वृद्ध= बूढ़ा, वानर=बंदर, विवाह=ब्याह, विद्युत=बिजली आदि.
    अतः निष्कर्षतः हम मानते हैं कि बवाल एक देशज शब्द है

    अब चर्चा करते हैं आदरणीया श्वेता जी की रचना की तो उन्होंने बिषय को परिभाषित करने की भरसक कोशिश बड़े ही रोचक तरीके से की है. व्यंग का मनोविनोदी रूप भी है, जीवन के विरोधाभास भी हैं जोकि कलात्मकता के निखार के साथ उभरे हैं. जन जन के मनोभाव समेट लिये हैं इस रचना में आदरणीया श्वेता जी ने.
    बधाई एवं शुभकामनायें.

    ReplyDelete
    Replies
    1. शब्द का अर्थ
      वबाल : पुं० [अ०] १. बोझ। भार। २. बहुत बड़ी विपत्ती या संकट। ३. झगड़े-बखेड़े की बात। झंझट। ४. दैवी प्रकोप। ५. पाप का फल। मुहावरा– (किसी का) बवाल पड़ना=दुखिया की आह पड़ना।
      समानार्थी शब्द- उपलब्ध नहीं

      Delete
    2. आदरणिय रविन्द्र सिहँ जी यादव आपने बहुत ही सुंदर तरीके से आपने समझाने का प्रयास किया है वबाल और बवाल के बारे मे आपको बहुत बहुत बधाई आशा है आगे भी रचना कारो का इसी तरहा मार्गदर्शन करते रहेंगे ।।

      Delete
    3. आदरणीय रवींद्र जी बवाल से उत्पन्न बवाल की जिज्ञासा शांत करने के लिए खूब शोध किया है आप जैसे जागरूक साहित्यकार हो तो फिर हमारे साहित्यक ज्ञान में वृद्धि होना निश्चंत है। आपका तहेदिल से आभार रवींद्र जी आपने बहुत अच्छे से समझाया। निश्चत ही पाठक लाभावान्वित होंगे।

      रचना पर आपकी सराहना के लिए हृदयतल से आभार आपका। कृपया अपनी शुभकामनाओं का साथ बनाये रखें सदा।

      Delete
  17. इधर-उधर से ढ़ूँढते हो रोज़ क़िस्से इश्क़ के
    हमने लफ़्ज़ों में बयां की मोहब्बत तो बवाल....
    हर पंक्ति सुंदर बन पड़ी है। बहुत अच्छा लिखा आपने !

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत-बहुत आभार आपका मीना जी,तहेदिल से शुक्रिया आपका।

      Delete
  18. बहुत सुंदर रचना ...
    खूबसुरती से इस्तेमाल किया बवाल को
    शब्दों से सजा दिया सवाल को
    बवाल पर सवाल उठे तो बवाल होना ही था
    सवालों के भाँवर में बवाल खोना ही था

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार प्रिय नीतू,
      आपने भी सुंदर पंक्तियाँ लिखी👌👌
      बहुत शुक्रिया आपका।

      Delete
  19. तुम्हारे हर प्रश्न का मैं सवाल हो गया
    कुछ पूछा मैंने तो बस बवाल हो गया
    तुम्हारी बन्दगी में गुजार दी जिंदगी मैंने
    चाहा दो पल का साथ बवाल हो गया।




    ReplyDelete
    Replies
    1. वाह्ह्ह...बहुत खूब प्रियम् जी...सुंदर पंक्तियाँ हैं। आभार आपका।

      Delete
  20. वाह खुबसूरत बवाल हो गया।
    बहुत ही अच्छी लगी रचना.!

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत बवाली आभार अनु...:)

      Delete
  21. वाह बेहतरीन लेखन ...👌👌👌
    ज़िंदगी एक बवाल है
    बवाल ज़िंदगी
    हाँ भी एक बवाल है
    ना भी बवाले ज़िंदगी !

    ReplyDelete
    Replies
    1. वाह्ह्ह...क्या.खूब..आपका तो जवाब नहीं प्रिय इन्दिरा जी..बहुत अच्छी प्रतिक्रिया आपकी👌
      आभार आपका बहुत सारा तहेदिल से शुक्रिया।

      Delete
  22. राह में चलते एक लड़की को देख लिया तो हुआ बवाल,
    पिट दिया बिना जाने कि कौन है वो मेरी तो उठा सवाल,
    आधुनिक समाज का दोष या गंदे नजर के परत का खेल,
    भीड़ से किसी ने कहा कि वो है इसकी बहन तो हुआ बवाल

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी अच्छी पंक्तियाँ आपकी प्रकाश जी।
      आभार आपका बहुत सारा।

      Delete
  23. आपकी लिखी रचना "मित्र मंडली" में लिंक की गई है https://rakeshkirachanay.blogspot.in/2018/01/53_22.html पर आप सादर आमंत्रित हैं ....धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार आपका राकेश जी,सुंदर रचनाओं के गुलदस्ते में मेरा भी एक फूल लगाने के लिए।

      Delete
  24. शानदार को शानदार से शानदार और क्या लिखूं
    छूलो आसमानों को उड कर इस से बैहतर पयाम क्या लिखूं।
    अप्रतिम अद्भुत।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत बहुत आभार दी,आपका ब्लॉग पर आना ही पुरस्कार है मेरी रचना का।
      तहेदिल से शुक्रिया दी बहुत सारा।

      Delete
  25. वाह श्वेता जी शानदार प्रस्तुति

    ReplyDelete

ब्लॉग की सालगिरह.... चाँद की किरणें

सालभर बीत गये कैसे...पता ही नहीं चला। हाँ, आज ही के दिन १६फरवरी२०१७ को पहली बार ब्लॉग पर लिखना शुरु किये थे। कुछ पता नहीं था ब्लॉग के बा...

आपकी पसंद