रविवार, 8 मार्च 2020

लालसा


रंगीन,श्वेत-स्याह
तस्वीरों में 
जीवन की
उपलब्लियों की 
छोटी-बड़ी
अनगिनत गाथाओं में
उत्साह से लबरेज़
आत्मविश्वास के साथ
मुस्कुराती 
बेपरवाह स्त्रियाँ,
समाज की आँखों में 
स्वयं के लिए
समानता और सम्मान 
का प्रतिबिंब
देखने की जिद में,
पगहा तोड़कर,
रचती है नयी कहानियाँ,
अपने अस्तित्व का खूँटा
गाड़ आती है
आसमान की
छाती पर।
 पर फिर भी,
अपने हृदय के एकांत में
सर्वाधिकार सौंपकर
होना चाहती है
निश्चिंत
मन के सबसे महीन
भावों के 
रेशमी लच्छियों का
एक सिरा थामे
उलझती जाती है...,
मुँह जोहती हैं,
आजीवन स्वेच्छा से
समझौता करती हैं,
अपने प्रिय पुरुष के
सानिध्य में अपने लिए
प्रेम का शाश्वत स्पंदन
महसूस करने की
लालसा में।

#श्वेता
८/०३/२०२०


मैं से मोक्ष...बुद्ध

मैं  नित्य सुनती हूँ कराह वृद्धों और रोगियों की, निरंतर देखती हूँ अनगिनत जलती चिताएँ परंतु नहीं होता  मेरा हृदयपरिवर...