शनिवार, 2 जून 2018

कौन सा रूप तुम्हारा?


लिलार से टपकती
पसीने की बूँद
अस्त-व्यस्त बँधे केश का जूड़ा
हल्दी-तेल की छींटे से रंगा
हरा बाँधनी कुरता
एक हाथ में कलछी
और दूसरे में पूरियों की थाल लिये
थकी सुस्त
जब तु्म्हारे सम्मुख आयी 
लहकती दुपहरी में
तुम्हारी भूरी आँखों से उठती
भीनी-भीनी चंदन की शीतलता 
पलकों के कोरों से छलकती
प्रेम की तरलता ने
सूरज से बरसती आग को
सावन के फुहार में बदल दिया
तुम्हारे अधरों से झरते
शब्दों को चुनती बटोरकर रखती जाती
खिड़की के पास लगे
तकिये के सिरहाने
एकांत के पलों के लिए
जब स्मृतियों के आईने से निकाल कर
तुम्हारी तस्वीर देखकर
नख से शिख तक निहारुँ खुद को
तुम्हारी बातों का करके श्रृंगार इतराऊँ
बस पूछूँ तुमसे एक ही सवाल
प्रियतम कभी नाक पर गुस्सा
कभी आँखों में प्रेम रस धार
बहुरुपिये कौन सा रुप तुम्हारा है ?

   #श्वेता सिन्हा



बुधवार, 30 मई 2018

प्रेम संगीत


जबसे साँसों ने
तुम्हारी गंध पहचानानी शुरु की है
तुम्हारी खुशबू
हर पल महसूस करती हूँ
हवा की तरह,
ख़ामोश आसमां पर
बादलों से बनाती हूँ चेहरा तुम्हारा
और घनविहीन नभ पर
काढ़ती हूँ तुम्हारी स्मृतियों के बेलबूटे
सूरज की लाल,पीली,
गुलाबी और सुनहरी किरणों के धागों से,
 जंगली फूलों पर मँडराती
 सफेल तितलियों सी बेचैन 
स्मृतियों के पराग चुनती हूँ,
 पेड़ो से गिरती हुई पत्तियों से
 चिड़ियों के कलरव में
 नदी के जल की खिलखिलाहट में
 बस तुम्हारी बातें ही सुनती हूँ
 अनगिनत पहचाने चेहरों की भीड़ में
 तन्हा मैं 
 हँसती, मुस्कुराती,बतियाती यंत्रचालित,
 दुनिया की भीड़ में अजनबी
 बस तुम्हें ही सोचती हूँ
 शाम की उदासियों में
 तारों की मद्धिम टिमटिमाहट में
 रजत कटोरे से टपकती
 चाँदी की डोरियों में
बाँधकर सारा प्रेम
 लटका देती हूँ मन के झरोखे से
 पवनघंटियों की तरह
 जिसकी मधुर रुनझुन 
 विस्मृत कर जीवन की सारी कड़वाहट
खुरदरे पलों की गाँठों में
घोलती रहे 
सुरीला प्रेमिल संगीत।

 ---श्वेता सिन्हा




रविवार, 27 मई 2018

क्या है प्रेम..?

चित्र: साभार गूगल

आँख मूँदें तुम्हारे एहसास में गुम
जब भी चाहती हूँ
तुम्हारी आत्मा से प्रेम करना
तुम्हारे देह में उलझ कर रह जाती हूँ
निर्मल मुस्कान, भोली आँखों में,
तुम्हारे स्पर्श की स्फुरण को झटक
मोहिनी तोड़कर
आगे बढ़ना आसान नहीं होता
देह की नदी की धाराओं के
उस पार
अस्तित्वविहीन आत्मा को ढूँढ़ती
तुम्हारे मन को टोहने लगती हूँ
तुम्हारे दुःख,सुख,आँसू मुस्कान,हंसी
सारे भावों को
अपने भीतर पाती हूँ 
पर निराकार नहीं  
साकार तुम्हारी देह के साथ
तुम कहते हो न
प्रेम आत्मा का आत्मा से प्रगाढ़ आलिंगन है
पर कहो न फिर 
कुछ अनुत्तरित से है प्रश्न मेरे
देह,आत्मा और प्रेम के
देह से परिचित होकर ही तो
तुम्हारी आत्मा तक जाने का पुल बना!
कैसे मिटाकर देह को
देखूँ  आत्मा?
निष्कलुष मन
जो तुम्हें महसूस करता है निःस्वार्थ 
तुमसे बिना किसी कांक्षा के
क्या कहूँ इस उद्दाम,उत्कंठ भाव को?
क्या है प्रेम?
तुम्हारे साथ बीतते बेसुध पल?
तुम्हें सदेह महसूस करता मन?
या ईश्वर की तरह तुम्हारा अस्तित्व
जो अदृश्य होकर भी
पल-पल में होने का आभास देता है
तुम्हारी देह के परिचय के साथ।

  श्वेता सिन्हा


मैं से मोक्ष...बुद्ध

मैं  नित्य सुनती हूँ कराह वृद्धों और रोगियों की, निरंतर देखती हूँ अनगिनत जलती चिताएँ परंतु नहीं होता  मेरा हृदयपरिवर...