Wednesday, 3 March 2021

हे प्रकृति...



मुझे ठहरी हुई हवाएँ
बेचैन करती हैं
बर्फीली पहाड़ की कठिनाइयाँ
असहज करती है
तीख़ी धूप की झुलसन से
रेत पर पड़ी मछलियों की भाँति
छटपटाने लगती हूँ
किसानों की तरह जीवट नहीं
ऋतुओं की तीक्ष्णता सह नहीं पाती
मैं बीज भी तो नहीं
जो अंकुरित होकर
धान की बालियाँ बने
और किसी का पेट भर सके
मैं चिड़िया भी नहीं 
जिसकी किलकारी से
मौन खिलखिला उठे
मैं पीपल या वट वृक्ष भी नहीं
जो असंख्य जीवों को
अपनी शाखाओं में समेटे
सुरक्षा का एहसास करा सके
मैं पहाड़ पर चढ़कर
बादलों में सपने नहीं भर सकी
मैं प्रेम भी नहीं हो सकी
जो मिटा सके मनुष्य के हृदय की
कलुषिता
मैं ज्ञान भी नहीं बन सकी
जो हो सके पुल
संभव और असंभव के बीच
मैं धूप-छाँव,नदी या झरना
भी नहीं 
शायद... बारिश की वह बूँद हूँ
जो गर्म रेत में गिरते ही सूखकर 
भाप बन जाती है
किसी कंठ की 
प्यास भी नहीं बुझा सकती,

उजाला,अंधेरा,
हरियाली,मरूभूमि, पहाड़,
सागर,सरिता,चिड़िया,चींटी
तितली,मौसम जैसी अनगिनत 
रंगों की अद्भुत चित्रात्मक
कृतियों की तरह ही
सृष्टि ने
मुझको भी दी है 
धरती की नागरिकता
अपने अधिकारों के
भावनात्मक पिंजरे में 
फड़फड़ाती 
जो न पा सकी उस
दुःख की गणना में
अपने मनुष्य जीवन के
कर्तव्यों को
पूरी निष्ठा से निभाने का शायद
ढोंग भर ही कर सकी। 
 
जीवन की 
यात्रा से असंतुष्ट
लासनायुक्त देह और
अतृप्त इच्छाओं के शापग्रस्त मन
का बोझ उठाये
अपने कर्मपथ की भूलभुलैया में 
निरंतर चलती थक चुकी हूँ
मात्र भीड़ की एक देह 
बनकर
अब जन्म-मरण के चक्र में
निरूद्देश्य और असंतुष्ट भटकना 
मुझे स्वीकार नहीं
हे प्रकृति!
मुझे बंधनों से मुक्त करो!
मुझे स्वयं में
एकाकार कर 
मेरे अस्तित्व को
सार्थकता प्रदान करो।

#श्वेता सिन्हा
३ मार्च २०२1


56 comments:

  1. बनकर
    अब जन्म-मरण के चक्र में
    निरूद्देश्य और असंतुष्ट भटकना
    मुझे स्वीकार नहीं
    हे प्रकृति!
    मुझे बंधनों से मुक्त करो
    मुझे स्वयं में
    एकाकार कर
    मेरे अस्तित्व को
    सार्थकता प्रदान करो ..संवेदना से भरी,अविरल बहती हुई मर्मस्पर्शी कविता अंतर्मन को बेध गई प्रिय श्वेता जी ..सुंदर भावपूर्ण सृजन के लिए हार्दिक शुभकामनाएं..

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत आभारी हूँ प्रिय जिज्ञासा जी।
      सस्नेह शुक्रिया।

      Delete
  2. आपकी लिखी रचना "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" आज बुधवार 03 मार्च 2021 को साझा की गई है.........  "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका स्नेह है प्रिय दी।
      बहुत आभारी हूँ।
      सादर।

      Delete
  3. जीवन की
    यात्रा से असंतुष्ट
    लसनायुक्त देह और
    अतृप्त इच्छाओं के शापग्रस्त मन
    का बोझ उठाये
    अपने कर्मपथ की भूलभुलैया में
    निरंतर चलती थक चुकी हूँ
    ...
    उत्कृष्ट रचना।
    सादर।

    ReplyDelete
    Replies
    1. प्रिय सधु जी बहुत आभारी हूँ।
      सस्नेह शुक्रिया।

      Delete
  4. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 04.03.2021 को चर्चा मंच पर दिया जाएगा| आपकी उपस्थिति मंच की शोभा बढ़ाएगी
    धन्यवाद

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत आभारी हूँ आदरणीय सर।
      सादर।

      Delete
  5. प्रकृति के सौंदर्य के साथ स्वयं को एकाकार कर अपनी भावनाओं को शब्द दिए हैं ।बेहतरीन रचना ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत आभारी हूँ आदरणीया दीदी।
      सादर प्रणामः

      Delete
  6. संभव और असंभव के बीच
    मैं धूप-छाँव,नदी या झरना
    भी नहीं
    शायद... बारिश की वह बूँद हूँ
    जो गर्म रेत में गिरते ही सूखकर
    भाप बन जाती है
    किसी कंठ की
    प्यास भी नहीं बुझा सकती----उत्कृष्ट रचना

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत आभारी हूँ आदरणीय सर।
      सादर शुक्रिया।

      Delete
  7. प्रिय श्वेता, धरती की नागरिकता जैसे भावपूर्ण वाक्य पर केंद्रित और स्वयं के अस्तित्व को सिरे से नकारती रचना को कवि मन की विनम्रता की अतिशयता कहूँ या मायूसी से भरे मन का असमय जीवन से पलायन का प्रयास। प्रकृति में एकाकार होना जीवन का अंतिम गंतव्य है क्योंकि जहाँ से जीवन यात्रा शुरू होती है, समाप्त भी वहीं होती है। रचना में व्याप्त नैराष्य भाव सोचने पर विवश कर गए। पर चिंतन की विहंगमता में तुम्हारा कोई सानी नहीं। जन्म दिन की पुनः शुभकामनाएँ। खूब आगे बढ़ो यही कामना है। हार्दिक स्नेह के साथ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी दी प्रणाम,
      मैंने कविता में प्रकृति में समाहित निःस्वार्थ भाव और मनुष्य मन में निहित स्व के भाव बताने का प्रयास किया है।
      जीवन मृत्यु के विचार मनुष्य मन को विचलित करते हैं किंतु स्वयं को प्रकृति का अंश मान लें अगर तो सारे भेद मिट जाते हैं।
      निराशावादी कुछ भी नहीं है महज सत्य ही है जिसे सहजता से स्वीकार कर लें तो जीवन के दुखों का भाव कम महसूस हो मेरे विचार से।
      आपका स्नेह मिला और रचना का भाव हम स्पष्ट कर पाये बहुत धन्यवाद दी।
      सस्नेह शुक्रिया।

      Delete
  8. Replies
    1. बहुत आभारी हूँ सर।
      सादर प्रणाम।

      Delete
  9. बहुत सुंदर सृजन।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत आभारी हूँ प्रिय अनुराधा जी।
      सादर शुक्रिया।

      Delete
  10. Replies
    1. बहुत आभारी हूँ प्रिय ज्योति जी।
      सादर शुक्रिया।

      Delete
  11. उत्तम ! संवेदनाओं से रचित भावाभिव्यक्ति।।
    एक प्रश्न उत्पन्न कर रही है.... प्रकृति में एकाकार होने भर से कोई मुक्त होता है क्या??
    सस्नेह।

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी प्रणाम दी,
      प्रकृति में एकाकार होकर
      जीवन-मृत्यु के चक्र से मुक्त हो पायें शायद...।
      आपका स्नेह मिला।
      बहुत आभारी हूँ दी।
      सस्नेह शुक्रिया।

      Delete
  12. हृदय की गहनता से अपनी संपूर्ण पीड़ा को अभिव्यक्त किया है आपने ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीय सर,
      ये महज किसी एक व्यक्ति के मन के भाव नहीं प्रकृति और मनुष्य का संवाद जीवन का शाश्वत सत्य है।
      सादर शुक्रिया।

      Delete
  13. क्या बात है, बहुत सुंदर

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत आभारी हूँ आदरणीय सर।
      सादर प्रणाम।

      Delete

  14. आदरणीया मैम,
    सब से पहले तो जन्मदिन की अनेकों शुभकामनाएं।
    आपकी यह रचना इतनी सुंदर है कि मेरे पास शब्द ही नहीं है कहने के लिये ।
    माँ प्रकृति से ऐसी करुण प्रार्थना और उनमें एकाकार होने की कामना...... ।
    आपकी इस रचना को पढ़ते हुए पुनः आपकी कोमलता और परोपकार सामने उभर कर आता है। आपकी इस रचना को पढ़ कर ऐसा लगता है मानों आँखों के आगे आपको देख रही हूँ। अनेकों प्रणाम।
    और कुछ नही कह सकती, लगता कोई और शब्द लिखूँगी तो नाहक इस रचना की सुंदरता घटा दूँगी।

    ReplyDelete
    Replies
    1. प्रिय अनंता,
      तुम्हारी स्नेहमयी प्रतिक्रिया के लिए बहुत बहुत प्यार। तुम्हारी उत्सावर्धक सराहना सदैव मुस्कुराहट दे जाती है।
      सदा खुश रहो।
      सस्नेह शुक्रिया।

      Delete
  15. आध्यात्मिकता का उत्कर्ष..... यह मेरी नानी की ओर से।

    ReplyDelete
    Replies
    1. नानी जी को सादर प्रणाम।
      आशीष मिलता रहे सदैव।

      Delete
  16. विडम्बनाओं के इस दौर में जीवन को जीना सबसे कठिन काम हो गया है.
    मानसिक प्रताड़नाओं से देह तो झुलस ही रहा है
    समूचा वातावरण भी झुलस रहा है.
    इस पीड़ा को आपने अपनी इस रचना में जिस ईमानदारी से शब्दों में पिरोया है, वाकई कमाल का है.
    प्रभावी ऒर सशक्त रचना
    बहुत बधाई

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत-बहुत आभारी हूँ आदरणीय सर।

      सादर प्रणाम।

      Delete
  17. इस रचना में मैं स्वयं को निकट पाया।
    सामर्थ्य और असमार्थ्य का यह विश्लेषण स्वयं को प्रकृति के और निकट जाने का मौका देता है। मुझे यह पवित्र आत्मा की कविता लगी।
    सादर प्रणाम सह शुभकामनायें।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत-बहुत आभारी हूँ भाई।
      सादर शुक्रिया।

      Delete
  18. प्रभावशाली और सशक्त रचना के लिए आपको बधाई। आपको शुभकामनाएँ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभारी हूँ.वीरेंद्र जी।
      सादर शुक्रिया।

      Delete
  19. पवित्र,
    पलायनवादी झलक,
    खुद की पहचान,
    सुंदर रचना।
    देरी से ही सही पर
    हैप्पी बर्थडे प्रिय दी।
    💐

    ReplyDelete
    Replies
    1. पलायनवादी नहीं है एक विचार और संवाद है प्रकृति और मानव मन के मध्य।
      बहुत आभारी हूँ भाई आपकी शुभकामनाओं के लिए।
      सस्नेह शुक्रिया।

      Delete
  20. लाजवाब, सबने सही,सुंदर कहा, मैं क्या कहूँ इसी सोच मे हूँ, हृदयस्पर्शी, भावपूर्ण बेहतरीन रचना, ढेरों शुभकामनाएं एवं बधाई हो आपको,

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत-बहुत आभारी हूँ प्रिय ज्योति जी।
      सस्नेह शुक्रिया।
      सादर।

      Delete
  21. लाजवाब, सबने सही,सुंदर कहा, मैं क्या कहूँ इसी सोच मे हूँ, हृदयस्पर्शी, भावपूर्ण बेहतरीन रचना, ढेरों शुभकामनाएं एवं बधाई हो आपको,

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत-बहुत आभारी हूँ प्रिय ज्योति जी।
      सस्नेह शुक्रिया।
      सादर।

      Delete
  22. "अब जन्म-मरण के चक्र में
    निरूद्देश्य और असंतुष्ट भटकना
    मुझे स्वीकार नहीं
    हे प्रकृति!
    मुझे बंधनों से मुक्त करो!
    मुझे स्वयं में
    एकाकार कर
    मेरे अस्तित्व को
    सार्थकता प्रदान करो।" - एक निराशावादी सोच और विरोधाभासी भी .. शायद ... "बंधन से मुक्ति" भी और "सार्थकता" भी !?
    क़माल है, अन्योन्याश्रय सम्बन्ध में जो सार्थकता है, वो भला मुक्ति में कहाँ ? अपनी वर्त्तमान सार्थकता को कम आँकना एक भूल या भ्रम है .. शायद ... ऐसी सोचें स्वयं के साथ-साथ आसपास भी निराशा पनपाती है .. शायद ...
    मेरी एक बतकही (?) "अन्योन्याश्रय रिश्ते" की चार पंक्तियाँ
    "है नारी संबल प्रकृति-सी,
    सार्थक पुरुष-जीवन तभी।
    फिर क्यों नारी तेरे मन में
    है भरी हीनता मनोग्रंथि ?" .. बस यूँ ही ... :)

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी,
      मेरी कविता का भाव विरोधाभासी और निराशावादी सोच आपके दृष्टिकोण से है परंतु मेरे विचार से आत्ममंथन से उत्पन्न भाव है जो मनुष्य को जीवन मरण से तटस्थ करते हैं।
      वर्तमान, यथार्थ पर आपके तर्क तथ्यपूर्ण और विचारणीय हैं।
      आपकी बतकही के अनुसार हीनग्रंथि का लेशमात्र विचार नहीं मेरी रचना में मात्र अपने कर्मों से असंतुष्टि ही है।
      आपने बहुमूल्य समय दिया समीक्षा की बहुत बहुत आभारी हूँ।
      आपकी प्रतिक्रिया सदैव मंथन को आमंत्रित करती हैं।
      शुक्रिया आपका।

      सादर।

      Delete
  23. बहुत मार्मिक चित्रण... आपके इस रचना को पढ़ने के बाद अच्छा लिखने की प्रेरणा मिली आपका धन्यवाद. कभी समय निकाल के मेरे ब्लॉग पे भी पधारे.

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत आभारी हूँ हरीश जी।
      सादर शुक्रिया।

      Delete
  24. मर्मस्पर्शी रचना। प्रकृति जब अपने बंधन में बांधती है तो उससे मुक्त होने की हम सिर्फ कामना ही कर सकते हैं, अपनी इच्छा से कुछ नहीं होता।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभारी हूँ.आदरणीय यशवंत जी।
      स्वागत है आपका।
      सारगर्भित प्रतिक्रिया के लिए अत्यंत आभार.
      सादर शुक्रिया।

      Delete
  25. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत सुन्दर सराहनीय रचना ।

      Delete
  26. बहुत सुन्दर सराहनीय रचना

    ReplyDelete
  27. बेहतरीन चित्रण, खूबसूरत रचना

    ReplyDelete
  28. सृष्टि ने
    मुझको भी दी है
    धरती की नागरिकता
    अपने अधिकारों के
    भावनात्मक पिंजरे में
    फड़फड़ाती
    जो न पा सकी उस
    दुःख की गणना में
    अपने मनुष्य जीवन के
    कर्तव्यों को
    पूरी निष्ठा से निभाने का शायद
    ढोंग भर ही कर सकी। ----------------बहुत सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  29. प्रकृति और हम मनुष्यों की तुलना यदि सटीकता से की जाय तो समझ आता है कि हम कुछ भी नहीं
    सोच और चिंतन से हमारा मैं प्रकृति के आगे नतमस्तक हो जाता है बुद्धि का अहम रखने वाले हम मनुष्य किसी भी तरफ से प्रकृति के सामने बहुत ही तुच्छ हैं। और फिर मन इस सच को हृदय से स्वीकारता है.... कि....
    मुझको भी दी है
    धरती की नागरिकता
    अपने अधिकारों के
    भावनात्मक पिंजरे में
    फड़फड़ाती
    जो न पा सकी उस
    दुःख की गणना में
    अपने मनुष्य जीवन के
    कर्तव्यों को
    पूरी निष्ठा से निभाने का शायद
    ढोंग भर ही कर सकी।
    बहुत ही चिन्तनपरक लाजवाब सृजन।

    ReplyDelete
  30. एक अविस्मरणीय अभिव्यक्ति।

    ReplyDelete
  31. हम आपको पढ़ने आए और आपकी लेखनी हमपर अपना प्रभाव न डाले यह तो असंभव सी बात है। आपको पढ़ते हुए अंतर में चल रही पुरानी हलचल कहीं गुम हो गई और एक नई हलचल ने जन्म ले लिया 😍...कुछ तो जादू है आपकी लेखनी में।
    " धरती की नागरिकता "...यह कहकर तो बहुत कुछ कह गई आपकी लेखनी। एक अद्भुत सत्य जिसका बस कुछ लोगों को आभास है पर जानते सब हैं। प्रकृति में एकाकार होने का भाव आपके मन की पवित्रता और समदर्शिता का प्रमाण है। आपकी लेखनी को बारंबार प्रणाम है 🙏

    ReplyDelete

आपकी लिखी प्रतिक्रियाएँ मेरी लेखनी की ऊर्जा है।

शुक्रिया।

मैं से मोक्ष...बुद्ध

मैं  नित्य सुनती हूँ कराह वृद्धों और रोगियों की, निरंतर देखती हूँ अनगिनत जलती चिताएँ परंतु नहीं होता  मेरा हृदयपरिवर...