शुक्रवार, 4 मई 2018

आत्मबोध


हर शाम सूरज की 
बोझिल फीकी बाहें
स्याह क्षितिज में 
समाने के पहले
छूकर मेरी आँखों को
उदास कर जाती है
गहरे नीले नभ पर
छायी नीरवता
कोंचने लगती है
मन के सारे भावों को,
तब अपनी अनुभूतियों की
चिता पर लेटी
बेचैन,छटपटाती हुई
तुम्हारी स्मृतियों के एक-एक तारे गिनती हूँ
पूछती हूँ अनुत्तरित प्रश्न स्वयं से
क्यूँ मेरी सिसकियों को अनसुना कर
 विवशता का बहाना किये
बस टुकुर-टुकुर ताकते रहे?
तुम्हारे खोखले भावों में गहरे उतरती रही
तुम खेलते रहे निर्लज्जता से 
तुम्हारे छल को सच समझती रही
मैं जीती रही हर स्वप्न
भूल कर अपने अस्तित्व
पर फिर भी
लाख़ कोशिशों के बावजूद
न भूल सकी गंध
तुम्हारे चम्पई एहसास के
तुम्हें सीने से लगाये हर पल जीती रही
छल के जाल में उलझी
मन की यात्रा से थककर
अब तोड़कर कृत्रिम एहसासों के धागे
जलाकर छद्म अनुभूतियों का कफ़न
अपना सम्मान कर
आत्मबोध के आलोक में
जगमगाना चाहती हूँ।

-श्वेता सिन्हा


मैं से मोक्ष...बुद्ध

मैं  नित्य सुनती हूँ कराह वृद्धों और रोगियों की, निरंतर देखती हूँ अनगिनत जलती चिताएँ परंतु नहीं होता  मेरा हृदयपरिवर...