Search This Blog

Sunday, 21 May 2017

आकाश झील

दिन भर की थकी किरणें
नीले आकाश झील के
सपनीले आगोश से
लिपटकर सो जाती है
स्याह झील के आँगन में
हवा के नाव पर सवार
बादल सैर को निकलते है
असंख्य ख्वाहिशों की कुमुदनी
में खिले सितारों की झालर
झील के पानी में जगमगाते है
शांत झील के एक कोने में
श्वेत दुशाला डाले तन्हा चाँद
आधा कभी पूरा मुख दिखलाता
जाने किस सोच में गुम उदास
निःशब्द बर्फ के शिलाखंड से
बूँद बूँद चाँदनी पिघला कर
मन को उजास की बारिश में
भिंगोकर शीतल करता है
निर्मल विस्तृत आकाश झील
हृदय के जलती बेचैनियों को
अपने सम्मोहन में बाँधकर
खींच लेता है अपनी ओर
और पलकों में भरकर स्वप्न
समा लेता है अपने गहरे संसार में।

    #श्वेता🍁




क्यों खास हो

नासमझ मन कुछ न समझे
कौन हो तुम क्यों खास हो

बनती बिगड़ती आस हो
अनकही अभिलाष हो
हृदय जिससे स्पंदित है
तुम वो सुगंधित श्वास हो
छूटती जीवन डोर की
तुम प्रीत का विश्वास हो

क्या हो कह दो खुद ही तुम
धड़कनों में क्यों खास हो

आधे अधूरे मन की वेदना
मौन में गूँजित हो साधना
न मिलो न पास हो पर,
ख्वाब तुम, तुम ही कल्पना
हर मोड़ पर जीवन के
तुमसे ही मिलती है प्रेरणा
अवनि से अंबर तक फैले
स्नेहिल भाव का आकाश हो

मेरे ख्यालों से न जाना तेरा
तन्हाईयों में तुम क्यों खास हो

मेरे रुप का अभिमान तुम
झुकी पलकों का सम्मान तुम
बड़े जतन से सँभाले रखा है
दिल के कोरे पन्नों पे नाम तुम
तुम हो जब तक चल रही है
धड़कते हो जीवन प्राण तुम
मिटती नहीं जितना भी बरसे
आकुल हृदय की प्यास तुम

तुम्हे महसूस कर इतराऊँ मैं
बता न तुम इतने क्यों खास हो

          #श्वेता🍁


मेरा मन

ये दर्द कसक दीवानापन
ये उलझा बिगड़ा तरसता मन
दुनिया से उकताकर के भागा
तेरे पहलू में आ सुस्ताता मन
दो पल को तुम मेरे साथ रहो
तन्हाई में तड़पता प्यासा मन
तेरी एक नज़र को बेकल
पल पल कितना अकुलाता मन
नज़रे तो दर न ओझल हो
तेरी आहट पल पल टोहता मन
खुद से बातें कभी शीशे से
तुझपे मोहित तुझे पाता मन
तेरी तलब तुझसे ही सुकून
हद में रह हद से निकलता मन
दुनिया के शोर से अंजाना
बस तुझसे ही बातें करता मन
बेरूख तेरे रूख से आहत
रूठा रूठा कुम्हलाता मन
चाहकर भी चाहत कम न हो
बस तुझको ही पागल चाहता मन

        #श्वेता🍁



सूरज

उनींदी पलकों को खोलकर देखे
भोर से मिलता अलसाता सूरज

घटाओं के झुरमुट से झाँककर
स्मित मुस्कान बिखराता सूरज

पर्वतशिख के बाहुपाश में बँध
सुधबुध सर्वस्व बिसराता सूरज

मस्त पवन के अमृत प्याले पीकर
हर फूल कली को रिझाता सूरज

चूमकर धरा की धानी चुनरिया
लता वन कानन दुलराता सूरज

नदी तड़ाग का जल सोना करके
सागर में छककर नहाता सूरज

नियत समय पर मिलने है आता
दिनभर कितना बतियाता सूरज

बादल से आँख मिचौली खेलता
रूप बदलकर दिखलाता सूरज

सप्त अश्व रथ में बैठकर चलता
सुबह और शाम बतलाता सूरज

        #श्वेता🍁