शुक्रवार, 1 फ़रवरी 2019

सुन...


नक़्श आँगन के अजनबी,कहें सदायें सुन
हब्स रेज़ा-रेज़ा पसरा,सीली हैं हवायें सुन

धड़कन-फड़कन,आहट,आहें दीद-ए-नमनाक
दिल के अफ़सानें में, मिलती हैं यही सज़ाएं सुन

सुन मुझ पे न मरक़ूज कर नज़रें अपनी
ख़ाली हैं एहसास दिल की साएं-साएं सुन

ना छेड़ पत्थरों में कैद लाल मक़बरे को
फिर जाग उठेंगीं, सोयी हुईं बलायें सुन

मैं अपनी पलकों से चुन लूँ सारे ग़म तेरे
तू जीस्त-ए-सफ़र में, मेरी पाक दुआएँ सुन

#श्वेता सिन्हा


नक़्श-चिह्न
हब्स -घुटन
रेज़ा-रेज़ा-कण-कण
दीद-ए-नमनाक-गीले नेत्
मरक़ूज-केंद्रित
जीस्त-ज़िंदगी

मैं से मोक्ष...बुद्ध

मैं  नित्य सुनती हूँ कराह वृद्धों और रोगियों की, निरंतर देखती हूँ अनगिनत जलती चिताएँ परंतु नहीं होता  मेरा हृदयपरिवर...