गुरुवार, 18 जुलाई 2019

चंदन का झूला....


चंदन का झूला हो फूलों भरा पालना
सपनों की परियाँ तुम दिन में भी जागना
नाजुक-सी राजरानी बिटिया हमारी है
सुन लो ओ चंदा तुम जी भर न ताकना

तितली सतरंगी वो घर भर में डोलती
पापा के कांधे झूल कूहू-सा बोलती
कौर-कौर जीवन में भरती मिठास है
बंद पड़ी खुशियों का ताला वो खोलती

रेशम की डोरी वो मखमल का आलना
कुहके तो मन के सब तारों का हालना
चुन-चुन के काँटें मैं अँचरा में भर लूँगी
बिटिया तू पाँव दूब राहों में डालना

निर्मल-सा झरना रुनझुन हवाओं की
सोन चिरैया मेरी सरगम दिशाओं की
बन जाऊँ नजरौटा बिटिया तुम्हारी मैं
लेती रहूँ ख़बर आने वाली बलाओं की

हर क्षण के प्याले में सुख आसव ढालना
दुख हो कि पीड़ा सब एक पल में टालना
तम का अंधियारा न छू पाये साया भी
माथे पर सूरज का झूमर है टाँकना

#श्वेता सिन्हा

सोमवार, 15 जुलाई 2019

सावन

मानसून के शुरुआत में चंद छींटे और बौछार, उसके बाद तो
पूरा अषाढ़ बीत गया बरखा रानी हमारे शहर 
बरसना भूल गयी है।
घटायें छाती हैं उम्मीद बँधती है कि बारिश होगी पर, बेरहम हवायें बादलोंं को उड़ाकर जाने कहाँ ले जाती हैं,  एक भी टुकड़ा नहीं दिखता बादल का, सूना आसमान मुँह चिढ़ाता है और मन उदासी से भर जाता हैंं।
बहुत चिंतित हूँ, 
 सब कह रहे अभी सावन बीता नहीं है देखना न इतनी बारिश होगी कि परेशान हो जाना। मैं अब बेसब्री से बारिश प्रतीक्षा कर रही हूँ,
खूब झमाझम बरसात हो यही दुआ कर रही हूँ,
प्रकृति का कण-कण तृप्त हो जाये।
सावन बारिश का मौसम ही नहीं हैं
सावन उम्मीद है,सपना है,खुशी है,त्योहार-उत्सव है,उमंग-तरंग है,राग-रंग है,सुर-संगीत है,प्रेम-गीत है
मेरी स्मृतियों में सावन 

सावन
----
टप-टपाती मादक बूँदों की
रुनझुनी खनक,
मेंहदी की
खुशबू से भींगा दिन,
पीपल की बाहों में
झूमते हिंडोले,
पेड़ों के पत्तों,
छत के किनारी से
टूटती
मोतियों की पारदर्शी लड़ियाँ
आसमान के
माथे पर बिखरी
शिव की घनघोर जटाओं से
निसृत
गंगा-सी पवित्र
दूधिया धाराएँ
उतरती हैं
नभ से धरा पर,
हरकर सारा विष ताप का
 अमृत बरसाकर
प्रकृति के पोर-पोर में
भरती है
प्राणदायिनी रस
सावन में...।

#श्वेता सिन्हा

मैं से मोक्ष...बुद्ध

मैं  नित्य सुनती हूँ कराह वृद्धों और रोगियों की, निरंतर देखती हूँ अनगिनत जलती चिताएँ परंतु नहीं होता  मेरा हृदयपरिवर...