मंगलवार, 24 सितंबर 2019

मौन अर्ध्य

विदा लेती
भादो की 
बेहद उदास शाम 
अनायास नभ के 
एक छोर पर उभरी
अपनी कल्पना में गढ़ी 
बरसों उकेरी गयी
 प्रेम की धुंधली तस्वीर में
तुम्हारे अक्स की झलक पाकर 
सूखकर पपड़ीदार हुये
कैनवास पर एहसास के रंगों का 
गीलापन महसूस कर
अवश मन 
तैरने लगा हवाओं में.....

मन अभिमंत्रित 
बँधता रहा तुम्हारे
चारों ओर 
मैं घुलती रही बूँद-बूँद
तुम्हारी भावों को
आत्मसात करती रही
तुम्हारे चटख रंगों ने
फीका कर दिया
जीवन के अन्य रंगों को,

अपनी साँसों में महसूस करती 
मैं अपनी प्रेम की कल्पनाओं को
यथार्थ में जीना चाहती हूँ 
छूकर तुम्हारी पेशानी
सारी सिलवटें 
मिटाना चाहती हूँ,
तुम्हारी आँखों में जमे 
अनगिनत प्रश्नों को 
अपने अधरों के ताप से
पिघलाकर स्नेह के बादल
बना देना चाहती हूँ
तुम्हारे मन के तलछट की
सारी काई काछकर
नरम दूब उगाना चाहती हूँ

पर डरती हूँ
कहीं मेरे स्पर्श करने से प्रेम,
खूबसूरत कल्पनाओं 
की रंगीन शीशियाँ,
कठोर सत्य की सतह पर
लुढ़ककर बिखर न जाये
रिसती,निर्बाध बहती
पवित्र भावनाओं
को मेरे छुअन का संक्रमण 
अभिशप्त न कर दे।

सोचती हू्ँ...
अच्छा हो कि
मैं अपनी स्नेहसिक्त
अनछुई कल्पनाओं को
जीती रहूँ
अपनी पलकों के भीतर
ध्यानस्थ,चढ़ाती रहूँ अर्ध्य 
मौन समाधिस्थ
आजीवन।

#श्वेता सिन्हा








सोमवार, 23 सितंबर 2019

सजदे


जहाँ हो बात इंसानियत की
मोहब्बत का एहतराम करते हैं
इंसान को इंसान समझकर
नेकियों के सजदे सरेआम करते हैं

मज़हबी दड़बों से बाहर झाँककर
 मनुष्यता की पोथी,किताब बाँचकर
धर्म के नाम पर ढ़ोंग लाख़ करते हैं
काफ़िर कहलाने से हम भी डरते हैं
ठठरी लाशों संग बैठकर दो-चार पल
दीनों के सजदे सुबह-शाम करते हैं

बुतपरस्तों के शहर के पहरेदार 
ज़ाबाज़ वतनपरस्त हरदम तैयार
बनती-मिटती सरहद की दीवारों में
सूनी कलाईयों,कोख की चीत्कारों में
ख़ामोशी से फ़र्ज़ निभाते वीरों के
वफ़ाओं के सज़दे बे-नाम करते हैं

धरा पर बहती संवेदनाओं की नदी
बुत मानवता को कहती रही सदी 
जल,ज़मीन,जंगल हवाओं की मस्ती
कुदरत के रेशों से बुनी इंसानी बस्ती
साँसों के तोहफों में भूलकर दुख-दर्द 
ज़िंदगी के सजदे हर जाम करते हैं

सुकून गँवाये जन्नत की ख़्वाहिश में 
रब ढूँढ रहे इंसानों की आजमाइश में
ईमान की कैफियत,धर्म की दुहाई 
जहन्नुम से खौफ़ज़दा,नर्क से रिहाई 
आईने हक़ीक़त के देखकर अक़्सर
दिलों के सजदे हम बे-दाम करते है

#श्वेता सिन्हा

मैं से मोक्ष...बुद्ध

मैं  नित्य सुनती हूँ कराह वृद्धों और रोगियों की, निरंतर देखती हूँ अनगिनत जलती चिताएँ परंतु नहीं होता  मेरा हृदयपरिवर...