शुक्रवार, 23 मार्च 2018

एहसास


मौन हृदय के स्पंदन के
सुगंध में खोये
जग के कोलाहल से परे
एक अनछुआ एहसास
सम्मोहित करता है
एक अनजानी कशिश
खींचती है अपनी ओर
एकान्त को भर देती है
महकती रोशनी से
और मैं विलीन हो जाती हूँ
शून्य में कहीं जहाँ
भावनाओं में बहते
संवेदनाओं की मीठी-सी निर्झरी 
मन को तृप्त करने का
असफल प्रयास करती है,
उस प्रवाह में डूबती-उतरती
भूलकर सर्वस्व
तुम्हें महसूस करती हूँ
तुम पास हो कि दूर
फ़र्क नहीं पड़ता 
पर, तुम साथ होते हो,
धड़कते दिल की तरह,
उस श्वास की तरह
जो अदृश्य होकर भी
जीवन का एहसास है।

     - श्वेता सिन्हा

मैं से मोक्ष...बुद्ध

मैं  नित्य सुनती हूँ कराह वृद्धों और रोगियों की, निरंतर देखती हूँ अनगिनत जलती चिताएँ परंतु नहीं होता  मेरा हृदयपरिवर...