Friday, 23 March 2018

एहसास


मौन हृदय के स्पंदन के
सुगंध में खोये
जग के कोलाहल से परे
एक अनछुआ एहसास
सम्मोहित करता है
एक अनजानी कशिश
खींचती है अपनी ओर
एकान्त को भर देती है
महकती रोशनी से
और मैं विलीन हो जाती हूँ
शून्य में कहीं जहाँ
भावनाओं में बहते
संवेदनाओं की मीठी-सी निर्झरी 
मन को तृप्त करने का
असफल प्रयास करती है,
उस प्रवाह में डूबती-उतरती
भूलकर सर्वस्व
तुम्हें महसूस करती हूँ
तुम पास हो कि दूर
फ़र्क नहीं पड़ता 
पर, तुम साथ होते हो,
धड़कते दिल की तरह,
उस श्वास की तरह
जो अदृश्य होकर भी
जीवन का एहसास है।

     - श्वेता सिन्हा

9 comments:

  1. आपकी लिखी रचना आज के "पांच लिंकों का आनन्द में" रविवार 25 मार्च 2018 को साझा की गई है......... http://halchalwith5links.blogspot.in/ पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
  2. भूलकर सर्वस्व
    तुम्हें महसूस करती हूँ
    तुम पास हो कि दूर
    फ़र्क नहीं पड़ता
    पर, तुम साथ होते हो,
    धड़कते दिल की तरह,
    उस श्वास की तरह
    जो अदृश्य होकर भी
    जीवन का एहसास है।

    प्रिय श्वेता जी,आपने 'एहसास 'को शब्दों में पिरो कर मौन प्रेम का बहुत सुन्दर एहसास कराया है ।
    सुंदर रचना ।
    सादर ।

    ReplyDelete
  3. वाह!!श्वेता...बहुत खूबसूरत शब्दों के मोतियों में पिरोया है आपने अपनी इस रचना की माला को ...

    ReplyDelete
  4. वाव्व...स्वेता,बहुत ही सुंदर एहसासों से परिपूर्ण रचना।

    ReplyDelete
  5. बेहतरीन
    उम्दा रचना
    कोमल एहसास को शब्दों में पिरो दिया है

    ReplyDelete
  6. उनका जीवन सफल है जिनके पास इतने सुंदर एहसास हों . सुंदर प्रस्तुति .

    ReplyDelete
  7. एक अनछुआ एहसास.....
    बहुत सुन्दर, शानदार , लाजवाब
    वाह!!!

    ReplyDelete
  8. किसी के होने का अहसास वक संबल है जो थाम के रखता है हमेशा फिर को चेतन में साथ है की नहि क्या फ़र्क़ पड़ता है ... प्रेम का रंग जब चढ़ जाता है अहसास के द्वार खुल जाते हैं ...
    सुंदर भावपूर्ण रचना है ..।

    ReplyDelete
  9. This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete

ब्लॉग की सालगिरह.... चाँद की किरणें

सालभर बीत गये कैसे...पता ही नहीं चला। हाँ, आज ही के दिन १६फरवरी२०१७ को पहली बार ब्लॉग पर लिखना शुरु किये थे। कुछ पता नहीं था ब्लॉग के बा...

आपकी पसंद