Wednesday, 28 March 2018

एहसास का बवंडर



सूना बड़ा है तुम बिन ख़्वाबों का टूटा खंडहर।
तुमसे ही मुस्कुराये खुशियों का कोई मंज़र ।।

होने लगी है हलचल मेरे दिल की वादियों में।
साँसों को छू रहा है पागल-सा इक समुंदर ।।

पूनम की चाँदनी में मुलाक़ात का मौसम हो।
आकर के तुम निकालो है हिज़्र का जो खंज़र।।

प्यासी ज़मी में दिल की बरसो न बनके बादल।
ग़म धूप की तपन से धड़कन हुई है बंजर ।।

वीरानियों  में  महके सूखे  हुए जो   गुल है।
ख़ामोशियों  में  चीख़ेे   एहसास  के  बवंडर।।


   -श्वेता सिन्हा

5 comments:

  1. वाह !!! बहुत खूब
    वीरानियों में महके सूखे हुए जो गुल है।
    ख़ामोशियों में चीख़ेे एहसास के बवंडर।।

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी,बहुत-बहुत आभार मीना जी,तहे दिल से शुक्रिया सस्नेह।

      Delete
  2. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" रविवार 13 मई 2018 को साझा की गई है......... http://halchalwith5links.blogspot.in/ पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. अति आभार आपका सर तहेदिल से शुक्रिया आपका।

      Delete

ब्लॉग की सालगिरह.... चाँद की किरणें

सालभर बीत गये कैसे...पता ही नहीं चला। हाँ, आज ही के दिन १६फरवरी२०१७ को पहली बार ब्लॉग पर लिखना शुरु किये थे। कुछ पता नहीं था ब्लॉग के बा...

आपकी पसंद