Saturday, 31 March 2018

मूरखता का वरदान


समझदारी का पाठ पढ़
हम अघा गये भगवान
थोड़ी सी मूरखता का
अब तुमसे माँगे वरदान

अदब,कायदे,ढ़ंग,तरतीब
सब झगड़े बुद्धिमानों के
प्रेम,परोपकार,भाईचारा
श्रृंगार कहाये मतिमारों के

इंसानों को इंसा मैं समझूँ
न धर्म-अधर्म का ध्यान रहे
मानवता का दीप जलाऊँ
मन मूढ़ मति अज्ञान रहे

मूरख ही चतुरों के मन के
करते कार्य अनुकूल
माँ लक्ष्मी भी करे सवारी
सभा की रौनक "फूल"

मूर्खदिवस पर एक-दूजे के
अकल नाप मुस्काते है
कौन है कितना बड़ा चतुर
तोल-बोल इतराते है

मूर्ख चालीसा गाइये हंसके
है मूरखता अनमोल खरा
सरल हृदय स्नेह भावयुक्त
निर्मल,निर्झर हिय नेह भरा

ना चाहूँ मैं विद्वान कहाना
हे प्रभु,इतनी कृपा करिये
हर कर मेरी सारी ज्ञानता
हृदय में दया,करुणा भरिये।

     -श्वेता सिन्हा


22 comments:

  1. अर्चना के इन स्वरों में एक स्वर मेरा मिला,
    मूढ़ मन मर्मज्ञ मति मढ़ और अन्तस् सदा खिला।...
    वाह! श्वेता जी, बहुत सुंदर सोच और अप्रतिम अर्चना! आभार!!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. वाह्ह्ह....अति सुंदर पंक्तियाँ,मन मोह गयी👌👌👌
      आपके स्नेह और आशीष भरी सराहना सदैव सकारात्मक ऊर्जा भरकर और भी अच्छा लिखने को प्रेरित करते है।
      अति आभार विश्वमोहन जी। कृपया आशीष बनाये रखे।

      Delete
  2. अरे वाहःह
    बहुत उम्दा
    राधे राधे

    ReplyDelete
    Replies
    1. अति आभार आपका लोकेश जी।
      राधे-राधे जी।

      Delete
  3. 👏👏👏👏👏👏
    वाह प्रिय श्वेता जी वाह 👍👍👍
    जो मूरखता का मांगी वरदान
    उससे सयाना कोई ना जान !

    ReplyDelete
    Replies
    1. हा हा हा,जी प्रिय इन्दिरा जी आपके स्नेह का अति आभार। आपकी सुंदर प्रतिक्रिया पढ़ मन प्रसन्न हुआ।

      Delete
  4. आपकी लिखी रचना आज के "पांच लिंकों का आनन्द में" रविवार 01 एप्रिल 2018 को साझा की गई है......... http://halchalwith5links.blogspot.in/ पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. हृदयतल से अति आभार आपका दी:)
      पाँच लिंकों में स्थान पाना सदैव गौरवान्वित करता है।

      Delete
  5. प्रिय श्वेता ----- मुर्खता की सुंदर अभ्यर्थना !!!!!! और कथित 'मूर्खों 'को सम्मान !! इस मनमोहक चातुर्य के क्या कहने !!!!सचमुच ऐसी अज्ञानता और सौ गुना भली ये किसी को हानि
    नहीं पहुंचाती और निर्मलता और सरलता से आच्छादित होती है | एक बार फिर एक दुर्लभ विषय को अपनी प्रखर लेखनी से बहुत रोचक और सरस बना दिया आपने | मेरी प्यार भरी शुभकामनायें |

    ReplyDelete
    Replies
    1. +Renu
      मेरी प्यारी रेणु दी,
      आपके द्वारा की गयी सुंदर विवेचना और नेह भरी सराहना ने मनोबल बढ़ा दिया है।
      अति आभार आपका,हृदयतल से बहुत शुक्रिया।

      Delete
  6. मूढ मूढ काको कहे
    तू स्वयं जडमति गूढ
    छल भरे चतुर संसार मे
    तूं मूढ ते मूढ।
    प्रिय श्वेता एक दृष्टि मे आपकी रचना के विपरीत सी पंक्तियाँ है पर ये आपके भावों का व्यंगात्मक समर्थन है कभी यूं ही बैठे बैठे लिख दी आज आपकी पोस्ट के समानांतर सी लगी तो प्रतिक्रिया स्वरूप लिख रही हूं।

    आपकी रचना पर प्रतिक्रिया के लिये तो हर बार बस शब्दों की कमी रहती है।
    सार्थक सत्य व्यंग्य और अद्भुत।

    सस्नेह।

    ReplyDelete
    Replies
    1. मेरी प्यारी दी,
      आपकी लिखी पंक्तियाँ सदैव सारगर्भित होती है। इतना गहन चिंतन और दुर्लभ दर्शन ही आपकी खास पहचान है।
      बहुत अच्छी लगी पंक्तियाँ दी👌👌👌

      आपका आशीष और स्नेह सदैव मेरे लिए अमूल्य है। हृदयतल से अति आभार आपका दी सदैव:)

      Delete
  7. बहुत सुंदर सोच .....अप्रतिम

    ReplyDelete
  8. क्या ही सटीक बात कहीं है श्वेता जी
    बुद्धिमानों की जमात में क्या रखा अब
    मात्र तर्क वितर्क और कुतर्क
    मूढ़ मगज के भोलेपन में ही नजर आता अब
    असली जीवन का अर्क.....
    नई सोच को मेरा नमन

    ReplyDelete
  9. मूर्खदिवस पर एक-दूजे के
    अकल नाप मुस्काते है
    कौन है कितना बड़ा चतुर
    तोल-बोल इतराते है
    ऐसी विद्वता और चतुरता किस काम की जो अहंकारी बना दे और हम दूसरों की हँसी उडा़ये
    इससे तो बेहतर हो हम मूर्ख और मूढ़ रहे ....
    बहुत ही सुन्दर प्रार्थना... भगवान भी ऐसे ही सहृदय को ही वरदान देते आये हैं....
    लाजवाब भाव....
    वाह!!!!

    ReplyDelete
  10. श्वेता जी हास-परिहास से चलकर आप तो पते की बात तक पहुँच गईं.

    ReplyDelete
  11. प्रिय श्वेता जी,
    बेहतरीन ।
    प्रार्थिनी के रूप में एक नाम मेरा भी शामिल कीजिये ।
    सादर ।

    ReplyDelete
  12. वाह वाही को शब्द नहीं मिल रहे श्वेता दीदी क्या कमाल की रचना है 👌👌👏👏

    जो पहन मुखौटा ज्ञानी का
    जग को मूर्ख बनाने आए
    भूल गये की खो के खुद को
    वो जग में बड़ मूर्ख कहाए

    ReplyDelete
  13. वाह!!वाह!!श्वेता ..क्या खूब लिखा है ....प्रशंसा के लिए शब्द कम पड रहे है ...

    ReplyDelete
  14. हास्य व्यंग के माध्यम से गंभीर सवालों की ओर इंगित करती सुंदर अभिव्यक्ति।
    बधाई एवं शुभकामनाएं श्वेता जी।

    ReplyDelete
  15. आदरणीय / आदरणीया आपके द्वारा 'सृजित' रचना ''लोकतंत्र'' संवाद मंच पर 'सोमवार' ० २ अप्रैल २०१८ को साप्ताहिक 'सोमवारीय' अंक में लिंक की गई है। आमंत्रण में आपको 'लोकतंत्र' संवाद मंच की ओर से शुभकामनाएं और टिप्पणी दोनों समाहित हैं। अतः आप सादर आमंत्रित हैं। धन्यवाद "एकलव्य" https://loktantrasanvad.blogspot.in/

    टीपें : अब "लोकतंत्र" संवाद मंच प्रत्येक 'सोमवार, सप्ताहभर की श्रेष्ठ रचनाओं के साथ आप सभी के समक्ष उपस्थित होगा। रचनाओं के लिंक्स सप्ताहभर मुख्य पृष्ठ पर वाचन हेतु उपलब्ध रहेंगे।

    निमंत्रण

    विशेष : 'सोमवार' ० २ अप्रैल २०१८ को 'लोकतंत्र' संवाद मंच अपने सोमवारीय साप्ताहिक अंक में आदरणीय 'विश्वमोहन' जी से आपका परिचय करवाने जा रहा है।


    अतः 'लोकतंत्र' संवाद मंच आप सभी का स्वागत करता है। धन्यवाद "एकलव्य" https://loktantrasanvad.blogspot.in/

    ReplyDelete
  16. Dapatkan Bonus Rollingan Casino Hingga 0.7%
    Bonus New Member / Cashback Hingga 10%
    Langsung Saja Gabung Dengan Kami www.bolavita.pro
    Untuk Info, Bisa Hubungi :
    BBM : BOLAVITA
    wechat : bolavita
    whatup : 6281377055002
    Email : cs@bolavita .com

    ReplyDelete

ब्लॉग की सालगिरह.... चाँद की किरणें

सालभर बीत गये कैसे...पता ही नहीं चला। हाँ, आज ही के दिन १६फरवरी२०१७ को पहली बार ब्लॉग पर लिखना शुरु किये थे। कुछ पता नहीं था ब्लॉग के बा...

आपकी पसंद