गुरुवार, 2 जुलाई 2020

नमक का अनुपात


वे पूछते हैं बात-बात पर
क्या आपके खून में
देशभक्ति का नमक है? 
प्रमाण दीजिए, मात्रा बताइये
नमक का अनुपात कितना है?
एकदम ठंडा है जनाब
खौलता क्यों नहीं कहिये न
आपके रक्त का ताप कितना है?

बारूद की गंध सूँघाते हैं
करते तोप और टैंकों की गणना 
सैन्य क्षमता का आकलन 
सनसनी रचते समाचारों की,
जादुई पिटारे से निकालकर
युद्ध का जिन्न दिखा-दिखाकर पूछते हैं
आपमें साहस का नाप कितना है?

विदेशी मसालों के तड़के से
देशी खिचड़ी में स्वाद का प्रयास
तू-तू,मैं-मैं उठा-पटक 
कयास अतिशयोक्ति,विश्लेषण
बेमतलब बहसों का अतिशय शोर 
दलों के समर्थन या विरोध से ही
 बेझिझक झट से बतला देते हैं
आपके देशभक्ति का माप कितना है...!!

देश के जिम्मेदार ख़बरनवीस 
वकील संवेदनशील मुकदमों के
स्वयं ही महामहिम न्यायाधीश 
तत्ववेत्ता, गड़े मुर्दों के विशेषज्ञ
जीवित मुद्दों के असली मर्मज्ञ
सर्वगुणसम्पन्न पूजनीय सर्वज्ञ
प्रश्नों के लच्छे में उलझाने वालों
 मेरा भी है आपसे एक प्रश्न
आपकी व्यापारिक कर्त्तव्यनिष्ठता और 
आपकी अंतर्रात्मा में तुलनात्मक
 दाब कितना है?

©श्वेता सिन्हा
२जुलाई २०२०

रविवार, 28 जून 2020

सरहद


धरती के 
मानचित्र पर खींची गयी
सूक्ष्म रेखाओं के 
उलझे महीन जाल,
मूक और निर्जीव प्रतीत होती
अदृश्य रूप से उपस्थित  
जटिल भौगोलिक सीमाएं 
अपने जीवित होने का 
भयावह प्रमाण
देती रहती हैं। 

सोचती हूँ अक्सर 
सरहदों की
बंजर,बर्फीली,रेतीली,
उबड़-खाबड़,
निर्जन ज़मीनों पर
जहाँ साँसें कठिनाई से
ली जाती हैं वहाँ कैसे
रोपी जा सकती हैं नफ़रत?

लगता है मानो
सरहदों को लगी
होती है आदम भूख...
या शायद अपनी जीवंतता
बनाये रखने के लिए 
लेती है समय-समय पर बलि
शूरवीरों की...।

पर सच तो यह है कि....
इंसानों की बस्ती के 
बुद्धिमान,स्वार्थी,
महत्वाकांक्षी नुमाइंदे
वर्चस्व की मंडी के
सर्वश्रेष्ठ व्यापारी होने की होड़ में
सरहद के पहरेदारों के
रक्त से क्रूरता का 
इतिहास लिखकर
खींची सरहद लकीरों को ज्यादा
गहरा करके महानता 
का पदक पहनते और
स्वयं को शांति का
पुरोधा बताते है!!

©श्वेता सिन्हा
२९जून २०२०

मैं से मोक्ष...बुद्ध

मैं  नित्य सुनती हूँ कराह वृद्धों और रोगियों की, निरंतर देखती हूँ अनगिनत जलती चिताएँ परंतु नहीं होता  मेरा हृदयपरिवर...