बुधवार, 16 दिसंबर 2020

'अजूबा' किसान

चित्र:मनस्वी

सदियों से एक छवि
बनायी गयी है,
चलचित्र हो या कहानियां
हाथ जोड़े,मरियल, मजबूर
ज़मींदारों की चौखट पर 
मिमयाते,भूख से संघर्षरत
किसानों के रेखाचित्र...
और सहानुभूति जताते दर्शक  
अन्नदाताओं को
बेचारा-सा देखना की
आदत हो गयी है शायद...!!

अपनी खेत का समृद्ध मालिक
पढ़ा-लिखा,जागरूक,
आधुनिक विचारों से युक्त,
जींस पहने, स्मार्ट फोन टपटपाता
मुखरित, बेबाक,
नयी जानकारियों से अप-टू-डेट
किसान नौटंकी क्यों लगता है?

गाँवों से समृद्ध हमारा देश 
 शहर से स्मार्ट शहर में बदला,
 स्मार्ट शहर से
 मेट्रो सिटी के पायदान चढ़ने पर
हम गर्वित हैं,
ग्रहों-उपग्रहों का शतकीय लॉचिंग,
5 जी,हाई स्पीड अंतरजाल
की बातें करते,
आधुनिक ,अत्याधुनिक और
 सुविधासंपन्न
होना उपलब्धि है,
फिर किसान का
काजू-बादाम,पिज्जा खाना
रोटी की मशीन और
टैक्टर से सज्जित,
बड़ी गाड़ियों से आना
अटपटा क्यों लगता है?

समाज का कौन-सा तबका 
सब्सिडी या सरकारी योजनाओं का
लाभ छोड़ देता है? 
बैंक का इंटरेस्ट रेट कम ज्यादा होने पर
सरकार को नहीं गरियाता है?
आयकर कम देना पड़े
अनगिनत तिकड़म नहीं लगाता है? 
अपनी समझ के हिसाब से
संवैधानिक अधिकारों की पीपुड़ी
कौन नहीं बजाता है?

क्रांति,आंदोलन या विद्रोह
सभी प्रकार के संघर्ष 
करने वालों का चेहरा तो
एक समान तना हुआ,
आक्रोशित ही होता है!
हर प्रसंग में
राजनीतिक दखलंदाजी
पक्ष-विपक्ष का खेल
नेताओं ,अभिनेताओं की
मौकापरस्ती
बहती गंगा में डुबकी लगाना
कोई नयी बात तो नहीं...!!

वैचारिकी पेंसिलों को 
अपने-अपने
दल,वाद,पंथ के
रेजमाल पर घिसकर
नुकीला बनाने की कला 
 प्रचलन में है,
सुलेख लिखकर
सर्वश्रेष्ठ अंक पाने की
होड़ में शामिल होने वाले
दोमुँहे बुद्धिजीवियों से
किसी विषय पर
निष्पक्ष मूल्यांकन 
और मार्गदर्शन की आशा
हास्यास्पद है।

तो फिर
 साहेब!!
एक बार
विरोध और समर्थन
पक्ष-विपक्ष का 
चश्मा उतारकर,निष्पक्ष हो
सोचिये न ज़रा...
याचकीय मुद्राओं को त्यागकर
मुनादियों से असहमत
अपने हक़ की बात पर
धरना-प्रदर्शन, विरोध करता 
बरसों से प्रदर्शनी में लगी
अपनी नैराश्य की तस्वीरें
चौराहों से उतारकर
अपनी दयनीय छवियों को
स्वयं तोड़ता,
अपने सपनों को ज़िदा रखने के लिए
अपनी बात ख़ुद फरियाने 
एकजुट हुआ किसान
  'अजूबा'
 क्यों नज़र आता है??

#श्वेता सिन्हा


 

मैं से मोक्ष...बुद्ध

मैं  नित्य सुनती हूँ कराह वृद्धों और रोगियों की, निरंतर देखती हूँ अनगिनत जलती चिताएँ परंतु नहीं होता  मेरा हृदयपरिवर...