Thursday, 28 September 2017

नारी हूँ मै


सृष्टि के सृजन का अधिकार
प्रभु रूप सम एक अवतार
नारी हूँ मैं धरा पर बिखराती
कण कण में खुशबू, सुंगध बहार,

आदर्श और नियमोंं के जंजीरों में
पंख बाँधे गये घर की चौखट से
अपनों की खुशियों को रोपती हूँ
हर दिन तलाशती अपना आधार

हर युग में परीक्षा मेरे अस्तित्व की है
सीता मैं राम की,अग्नि स्नान किया
द्रौपदी मैं,बँटी वस्तु सम पाँच पुरुष में 
मैं सावित्री यम से ले आयी पति प्राण,

शक्ति स्वरूपा असुर निकंदनी मैं माता
मंदोदरी, अहिल्या तारा सती विख्याता
कली, पुष्प ,बीज मैं ही रूप रंग श्रृंगार
मेरे बिन इस जग की कल्पना निराधार,

मैं भोग्या वस्तु नही, खिलौना नहींं
मैं मुस्काती,धड़कती जीवन श्वाास हूँ
साँस लेने दो,उड़ने को नभ दो मुझे
नारी हूँ मैं चाहती जीने का सम आधार,

न पूजो मुझे  बस नवरात्रों में ही
रखकर मान हृदय में स्थान दो 
मसल कर रख दोगे नन्ही कली गर
कैसे रचा पाऊँगी मैं सुंदर संसार।

        #श्वेता🍁

24 comments:

  1. नारी की गरिमा को बहुत‎ खूबसूरती से उकेरा है श्वेता जी. अत्यन्त सुन्दर‎ रचना‎ .

    ReplyDelete
    Replies
    1. अति आभार मीना जी,आपकी सुंदर प्रतिक्रिया के लिए शुक्रिया खूब सारा।

      Delete
  2. वाह प्रत्येक बंध उम्दा
    बहुत खूबसूरत रचना

    ReplyDelete
    Replies
    1. अति आभार आपका लोकेश जी,आपकी कम शब्दों में की गयी सराहना सदैव बहुत कुछ.बोलती सी मनोबल बढ़ा जाती है।
      तहेदिल से खूब सारा शुक्रिया आपका लोकेश जी।

      Delete
  3. हर युग में परीक्षा मेरे अस्तित्व की है
    सीता मैं राम की,अग्नि स्नान किया
    द्रौपदी मैं,बँटी वस्तु सम पाँच पुरुष में
    मैं सावित्री यम से ले आयी पति प्राण,...... वाह! बहुत सुन्दर! प्रशंसा शब्दों से परे!माँ आपकी लेखनी पर सर्वदा विराजे !!!

    ReplyDelete
  4. दुर्गाष्टमी पर्व पर आपकी यह प्रस्तुति परिवेश की सरगम-सी है जिसमें भावातिरेक झलक रहा है जोकि सामयिक परिस्थिजन्य आक्रोश को भी प्रवाहित करता है।
    मुखरित होकर स्त्री को अपना आसमान तय करना होगा।
    समयानुकूल जीवन को व्यापकता देने वाले मूल्यों को सृजित करना होगा।
    पुरुषसत्ता को अपनी अहमियत से प्रभावित करना होगा ताकि सद्भावना के बंद द्वार खुल सकें।
    स्त्री गरिमा और जटिलताओं से भरे जीवन पथ की गाथा बन गयी है आपकी रचना जोकि निस्संदेह ज़ेहनियत पर प्रहार करती है।
    आपको ढेरों बधाइयाँ और मंगलकामनाऐं दुर्गाष्टमी के पावन पर्व पर।

    ReplyDelete
  5. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" शुक्रवार 29 सितम्बर 2017 को लिंक की गई है.................. http://halchalwith5links.blogspot.com पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
  6. बेहतरीन ..
    नारी के अंतरमन को बखूबी से प्रस्तुत करती रचना.

    ReplyDelete
  7. नारी के वास्तविक सत्य को उजागर करती रचना ।

    ReplyDelete
  8. शक्ति स्वरूपा असुर निकंदनी मैं माता
    मंदोदरी, अहिल्या तारा सती विख्याता
    कली, पुष्प ,बीज मैं ही रूप रंग श्रृंगार
    मेरे बिन इस जग की कल्पना निराधार।

    Wahhhhh। नारी के अंतर्मन का विराट गान। बहुत सुघड़ और प्रभावी रचना। ऐसे अर्थपरक सुंदर बन्ध, कि कण कण में फैली सुगन्ध।

    ReplyDelete
  9. मै भोग्या वस्तु नहीं ,खिलौना नहीं
    मै मुस्काती,धड़कती जीवन श्वास हूँ....
    नारी हूँ मैं.....बहुत ही लाजवाब....
    नारी के बिना जग की कल्पना निराधार ही है....बहुत ही सटीक सार्थक अभिव्यक्ति...
    वाह!!!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. मेरा ब्लॉग नजर आता है क्या ?

      Delete
    2. आपके ब्लॉग के पते में कुछ गलत है लगता है । नजर नहीं आ रहा है ।

      Delete
  10. मेरा ब्लॉग नजर आ रहा है क्या ?

    ReplyDelete
    Replies
    1. www.kavibhyankar.blogger.com आपके प्रोफाइल पर पहुँचा रहा है। बलॉग पता दीजिये।

      Delete
  11. नारी के अंतर्मन ... उसकी गरिमा को शब्द दिए हैं रचना ने ,,,,
    बहुत लाजवाब ...

    ReplyDelete
  12. न पूजो मुझे बस नवरात्रों में ही
    रखकर मान हृदय में स्थान दो
    मसल कर रख दोगे नन्ही कली गर
    कैसे रचा पाऊँगी मैं सुंदर संसार।
    नारी मन का बहुत ही सुंदर विवेचन किया है आपने।

    ReplyDelete
  13. विहंगम संयोजन है शब्दों का।
    सुंदर भावाव्यक्ति।

    ReplyDelete
  14. " नारी पर आधारित श्रेष्ठ रचना , नारी के अंतर्मन एवं उसकी चाह को मुखर ब्द देती सुन्दर कविता " आपकी लिखी रचना "मित्र मंडली" में लिंक की गई है https://rakeshkirachanay.blogspot.in/2017/10/37.html पर आप सादर आमंत्रित हैं ....धन्यवाद!

    ReplyDelete
  15. मसल कर रख दोगे नन्ही कली गर
    कैसे रचा पाऊँगी मैं सुंदर संसार।
    नारी मन का बहुत ही सुंदर विवेचन किया है आपने।

    ReplyDelete
  16. बहुत सुंदर रचना.

    ReplyDelete
  17. https://girijeshthepoet.blogspot.in/search?q=woman

    ReplyDelete

ब्लॉग की सालगिरह.... चाँद की किरणें

सालभर बीत गये कैसे...पता ही नहीं चला। हाँ, आज ही के दिन १६फरवरी२०१७ को पहली बार ब्लॉग पर लिखना शुरु किये थे। कुछ पता नहीं था ब्लॉग के बा...

आपकी पसंद