बुधवार, 18 मई 2022

तुमसे प्रेम करते हुए...(३)



सिलवट भरे पन्नों पर जो गीली-सी लिखावट है,
मन की स्याही से टपकते, ज़ज़्बात की मिलावट है।

पलकें टाँक रखी हैं तुमने भी तो,देहरी पर,
ख़ामोशियों की आँच पर,चटखती छटपटाहट है ।

लाख़ करो दिखावा हमसे बेज़ार हो जीने का,
नाराज़गी के मुखौटे में छुप नहीं पाती सुगबुगाहट है।

मेरी नादानियों पर यूँ सज़ा देकर हो परेशां तुम भी
सुनो न पिघल जाओ तुम पर जँचती मुस्कुराहट है।

-श्वेता सिन्हा


26 टिप्‍पणियां:


  1. मेरी नादानियों पर यूँ सज़ा देकर हो परेशां तुम भी
    सुनो न, पिघल जाओ तुम पर जँचती मुस्कुराहट है।
    हाय ! इस मासूमियत पर कौन ना मर जाए ऐ खुदा!!

    जवाब देंहटाएं
  2. मेरी रचना पर आपकी टिप्पणी स्पैम में भी नहीं मिली। गूगलेश्वर महाराज खा गए शायद।

    जवाब देंहटाएं
  3. नाराज़ भी होते हैं और खुद परेशां भी होते हैं ।
    ज़ज़्बातों को लपेट हम ज़ार ज़ार रोते हैं
    ये तहतीर जो लिखी है अश्कों की स्याही से
    देखो न बस हम तेरी इक मुस्कान को तरसते हैं ।

    कुछ ऐसा से लगा पढ़ कर ......लाजवाब 👌👌👌👌

    जवाब देंहटाएं
  4. पलकें टाँक रखी हैं तुमने भी तो,देहरी पर,
    ख़ामोशियों की आँच पर,चटखती छटपटाहट है ।
    वाह!!!

    जवाब देंहटाएं
  5. मेरी नादानियों पर यूँ सज़ा देकर हो परेशां तुम भी
    सुनो न पिघल जाओ तुम पर जँचती मुस्कुराहट है।
    तुम्हारी मुस्कराहट देखने की आरजू दिल को....
    बहुत ही लाजवाब सृजन।

    जवाब देंहटाएं

  6. जी नमस्ते ,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शुक्रवार(२०-०५-२०२२ ) को
    'कुछ अनकहा सा'(चर्चा अंक-४४३६)
    पर भी होगी।
    आप भी सादर आमंत्रित है।
    सादर

    जवाब देंहटाएं
  7. एक एक शब्द एक से बढ़कर एक।

    जवाब देंहटाएं
  8. वाह! बहुत ही बेहतरीन।

    जवाब देंहटाएं
  9. बहुत सुन्दर श्वेता !
    मान-मनौअल का, अपना आनंद है. एक पुराना नग्मा याद आ रहा है -
    'तुम रूठी रहो, मैं मनाता रहूँ, मज़ा जीने का और भी आता है ---'

    जवाब देंहटाएं
  10. प्रेम में पड़े रहना और प्रेम में जीने की कला सिखाती
    बेहद खूबसूरत रचना

    कमाल का सृजन
    बधाई

    जवाब देंहटाएं
  11. वाह!श्वेता ,अद्भुत!!

    जवाब देंहटाएं
  12. तुम्हारी मुस्कराहट देखने की आरजू दिल को....
    बहुत ही लाजवाब सृजन

    जवाब देंहटाएं
  13. शानदार भावों को अस्आर में पिरोया है आपने प्रिय श्वेता।
    बहुत सुंदर सृजन।
    मन की स्याही से टपके ज़ज़्बात लाजवाब।

    जवाब देंहटाएं
  14. लाख छुपाओ, छुप न सकेगा, राज़ ये दिल का गहरा !!☺️☺️
    सुंदर रचना।

    जवाब देंहटाएं
  15. मेरी नादानियों पर यूँ सज़ा देकर हो परेशां तुम भी
    सुनो न पिघल जाओ तुम पर जँचती मुस्कुराहट है।
    ...वाह बहुत बढ़िया, नजाकत नफासत भरी रचना ।

    जवाब देंहटाएं
  16. प्रेम के हजार फूलों को निचोड़कर लाई गई इत्र सी है ये मुस्कुराहट... उठी खुश्बू के लिए अब क्या कहना.....

    जवाब देंहटाएं
  17. शेफालिका उवाच से विभा नायक10:35 pm, मई 30, 2022

    वाह मुझे तो प्रेम हो गया

    जवाब देंहटाएं
  18. बेहतरीन अभिव्यक्ति

    जवाब देंहटाएं
  19. कोमल भावों से सजी मधुर सरस कृति ।

    जवाब देंहटाएं
  20. डॉ विभा नायक5:28 pm, जून 08, 2022

    वाह क्या खूब लिखा है, काश मैं भी ऐसा कुछ लिख पाती🌹

    जवाब देंहटाएं
  21. वाह! अंतिम शेर सबसे प्यारा है!

    जवाब देंहटाएं
  22. सिलवट भरे पन्नों पर जो गीली-सी लिखावट है,
    मन की स्याही से टपकते, ज़ज़्बात की मिलावट है।///
    रूहानी एहसासों की सुन्दर और भावपूर्ण अभिव्यक्ति प्रिय श्वेता।अच्छा लगा पढ़कर

    जवाब देंहटाएं

आपकी लिखी प्रतिक्रियाएँ मेरी लेखनी की ऊर्जा है।
शुक्रिया।

मैं से मोक्ष...बुद्ध

मैं  नित्य सुनती हूँ कराह वृद्धों और रोगियों की, निरंतर देखती हूँ अनगिनत जलती चिताएँ परंतु नहीं होता  मेरा हृदयपरिवर...