Saturday, 26 August 2017

मौन हो तुम

मौन हो तुम गुनगुनाते
वीणा मधुर आलाप हो
मंद मंद सुलगा रहा मन
अतृप्त प्रेम का ताप हो
नैन दर्पण आ बसे तुम
स्वर्ण स्वप्नों के चितेरे
प्रीत भरे हृदय घट के
सकल नेह के हो लुटेरे
पाकर जिसे न छू सकूँ
अबोला कोई शाप हो
तेरे नयन आलोक से
सजता मेरा रंग रूप है
साथ चल दो कुछ कदम
लगे चाँदनी सी धूप है
साँसों में जपकर न थकूँ
प्रभु मंत्र सा तुम जाप हो
रंग लिया हिय रंग में तेरे
कुछ नहीं अब बस में मेरे
बाँधे पाश मनमोह है घेरे
बंद पलक छवि तेरे डेरे
अश्रुजल से न मिट सके
वो अमिट अनंत संताप हो
मौन हो तुम गुनगुनाते
वीणा मधुर आलाप हो
     #श्वेता🍁

  


चित्र साभार गूगल

24 comments:

  1. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" रविवार 27 अगस्त 2017 को लिंक की गई है.................. http://halchalwith5links.blogspot.com पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार आदरणीय आपका मेरी रचना को मान देने के लिए।

      Delete
  2. बहुत सुंदर रचना श्वेता जी

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार लोकेश जी।

      Delete
  3. मौन हो तुम गुनगुनाते
    वीणा मधुर आलाप हो
    बहुत ही सुन्दर...
    साथ चल दो कुछ कदम
    लगे चाँदनी सी धूप है....
    लाजवाब...
    वाह !!

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार आपका सुधा जी आपकी सुंद उत्साहवर्धन करती प्रतिक्रिया के लिए।

      Delete
  4. आदरणीय श्वेता जी ---- मन के सूक्ष्म महीन भावों को रचना के रूप में ढालने में आपका कोई सानी नहीं है | चमत्कृत कर देती है आपकी असीम प्रतिभा | माँ सरस्वती आपकी रचनात्मकता बनाये रखे | बहुत लाजवाब लगी ये रचना ------ शुभकामना सहित ------

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत आभार आपका आदरणीय रेणु जी।
      आपकी सुंदर प्रतिक्रिया एवं हार्दिक शुभकामनाओं से हृदय गदगद हुआ।
      तहेदिल से आपका शुक्रिया।

      Delete
  5. वाह ! बहुत ख़ूब श्वेता जी सुन्दर पंक्तियाँ आभार "एकलव्य"

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत आभार शुक्रिया बहुत बहुत आपका ध्रुव जी।

      Delete
  6. समर्पण को उकेरती अभिव्यक्ति ह्रदय में उतरकर टटोलती है अपना-अपना आसमान ,अपने-अपने अरमान। भावों को शब्दों में पिरोने और व्यंजना उत्पन्न करते हुए वाचक को रसानुभूति कराने में सफल रचनाओं का सृजन श्वेता जी के रचना संसार में समाहित है।
    मार्मिक प्रस्तुति श्वेता जी।
    बधाई एवं शुभकामनाऐं।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार रवींद्र जी आपकी उत्साहवर्धन करती प्रतिक्रिया सदैव मन आहृलादित कर जाती है।बहुत आभारी है तहे दिल से आपकी शुभकामनाओं के लिए।कृपया अपने आशीर्वचनों से सिक्त करते रहे मुझे।

      Delete
  7. सुन्दर रचना

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार आपका ओंकार जी।
      ब्लॉग पर आपका स्वागत है।

      Delete
  8. सूक्ष्म मन के भावों को समर्पण की ओर ले जाते हुए प्रेम के मधुर क्षणों का सृजन है ये रचना ....

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी बहुत आभार एवं तहेदिल से बहुत बहुत शुक्रिया आपका नासवा जी।

      Delete
  9. रंग लिया हिय रंग में तेरे
    कुछ नहीं अब बस में मेरे
    बाँधे पाश मनमोह है घेरे
    बंद पलक छवि तेरे डेरे
    अश्रुजल से न मिट सके
    लाजबाब प्रस्तुति, स्वेता।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार एवं तहेदिल से बहुत शुक्रिया आपका ज्योति जी। कृपया,नेहाशीष बनाये रखे।

      Delete
  10. वाह ! क्या बात है ! बहुत सुंदर प्रस्तुति आदरणीया । बहुत खूब ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार एवं तहेदिल से बहुत शुक्रिया आपका सर।

      Delete
  11. प्रीत भरे हृदय घट के
    सकल नेह के हो लुटेरे
    पाकर जिसे न छू सकूँ
    अबोला कोई शाप हो !

    ReplyDelete
    Replies
    1. अति आभार आपका सस्नेह शुक्रिया आपका मीना जी।आपने दो मान दिया उसके लिए हृदय तल से बहुत बहुत धन्यवाद.

      Delete
  12. मौन हो तुम गुनगुनाते, वीणा मधुर आलाप हो
    मंद मंद सुलगा रहा मन अतृप्त प्रेम का ताप हो...
    बहुत ही सुंदर रचना,,,,

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार आपका तहेदिल से शुक्रिया
      P.k ji
      आपकी बहुमूल्य प्रतिक्रिया का सदैव हृदय से स्वागत है।

      Delete

ब्लॉग की सालगिरह.... चाँद की किरणें

सालभर बीत गये कैसे...पता ही नहीं चला। हाँ, आज ही के दिन १६फरवरी२०१७ को पहली बार ब्लॉग पर लिखना शुरु किये थे। कुछ पता नहीं था ब्लॉग के बा...

आपकी पसंद