Sunday, 6 August 2017

भैय्या तेरी याद


बचपन की वो सारी बातें
स्मृति पटल पर लोट गयी
तुम न आओगे सोच सोच
भरी पलकें आँसू घोंट गयी
वीरगति को प्राप्त हुये तुम
भैय्या तुम पर हमें  नाज़ है
सूना आँगन चुप घर सारा
बस सिसकियों का राज़ है
छुप छुप रोये माँ की आँखें
पापा भी मौन उदास है
रोऊँ मैं कौन चुप करायेगा
लूडो में मुझे हारता देखकर
कौन मुझको जितवायेगा
चोरी से छुपके सबसे अब
पिक्चर कौन ले जायेगा
पॉकेटमनी बचा बचाकरके
मँहगी किताबें कौन दिलवायेेेगा
तुम बिन राखी आकर जायेगी
कितना भी समझाऊँ खुद को
भैय्या तेरी याद बहुत ही आयेगी
न होगी वो होली, दिवाली, दूज
ये वेदना रह रह मुझे रूलायेगी
नियति के क्रूर लेख से हारकर
तेरी कमी आजीवन न भर पायेेेगी
   #श्वेता🍁
चित्र साभार गूगल

18 comments:

  1. बहुत सुंदर भावपूर्ण रचना

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार शुक्रिया आपका लोकेश जी।

      Delete
  2. हृदयस्पर्शी रचना.....
    बहुत ही सुनश्र

    बहुत ही सुन्दर हृदय स्पर्शी रचना......



    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार शुक्रिया आपका सुधा जी।

      Delete
  3. नयनों को नम करती उष्ण रचना!

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार शुक्रिया आपका विश्वमोहन जी।

      Delete
  4. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द" में सोमवार 07 अगस्त 2017 को लिंक की गई है.................. http://halchalwith5links.blogspot.com आप सादर आमंत्रित हैं ,धन्यवाद! "एकलव्य"

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार आपका ध्रुव जी।

      Delete
  5. बहन भाई का प्यार दर्शाती बहुत सुंदर रचना।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार शुक्रिया आपका ज्योति जी।

      Delete
  6. सुन्दर हृदय स्पर्शी बहन भाई का प्यार दर्शाती.... रचना।

    ReplyDelete
  7. बहुत बहुत आभार शुक्रिया आपका संजय जी।

    ReplyDelete
  8. वीर गति को प्राप्त हुए भाई की याद में रचना बहुत भावुक कर देने वाली है ------ कोटि कोटि नमन ऐसे वीर भाई की याद को ---------

    ReplyDelete
  9. वीर गति को प्राप्त हुए वीर भाई की रिक्तता को दर्शाती भावपूर्ण और ह्रदय स्पर्शी रचना ------ ऐसे वीर भाई की याद को कोटि कोटि नमन -----

    ReplyDelete
  10. बहुत बहुत आभार आपका रेणु जी। तहे दिल से शुक्रिया।

    ReplyDelete
  11. हृदय स्पर्शी रचना..
    राखी के दो तार सँग , मीठे सच्चे बोल
    किस्मत वालों को मिलें,ये बंधन अनमोल!

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार आपका विनोद जी
      आपको मेरे ब्लॉग पर देख बहुत अच्छा लगा।
      हमेशा की तरह आपकी सुंदर लाज़वाब दो पंक्तियाँ👌👌

      Delete
  12. जो वीर गति को प्राप्त करते हैं वो कहीं नहीं जाते ... आस पास ही रहते हैं ...
    दिल को छूते हुए एहसासों को शब्द दिए हैं आपने ... राखी के एहसास को ज़िंदा रखा है आपने ...

    ReplyDelete

सुरमई अंजन लगा

सुरमई अंजन लगा निकली निशा। चाँदी की पाजेब से छनकी दिशा।। सेज तारों की सजाकर  चाँद बैठा पाश में, सोमघट ताके नयन भी निसृत सुधा...