Wednesday, 9 January 2019

दर्दे दिल...

दर्दे  दिल  की अजब  कहानी  है
होंठों पर मुस्कां आँखों में पानी है

जिनकी ख़्वाहिश में गुमगश्ता हुये
उस राजा की  कोई और  रानी  है

रात कटती है  यूँ  रोते च़रागों की
ज्यों बाती ने ख़ुदकुशी की ठानी है

दर्द,ग़म,तड़प,अश्क और रूसवाई,
इश्क़ ने जहाँभर की खाक़ छानी है

बेहया दिल टूटकर भी धड़कता है
ज़िंदा लाशों की ये तो बदज़ुबानी है


-श्वेता सिन्हा

गुमगश्ता= भटकता हुआ, खोया हुआ





40 comments:

  1. वाह्ह्ह!

    नशेमन शीशे का क्यों बनाते हो बेताबियों मे
    कुछ भी न बच पायेगा पत्थर की सजाओंं मे

    ReplyDelete
    Replies
    1. वाह्ह्ह... बेहतरीन... बहुत सुंदर अशआर..👌

      Delete
  2. रात कटती है यूँ रोते च़रागों की
    ज्यों बाती ने ख़ुदकुशी की ठानी है वाह बहुत ही बेहतरीन रचना

    ReplyDelete
  3. सादर आभार अनुराधा जी...बेहद शुक्रिया आपका।

    ReplyDelete
  4. ब्लॉग बुलेटिन की दिनांक 09/01/2019 की बुलेटिन, " अख़बार की विशेषता - ब्लॉग बुलेटिन “ , में आप की पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभारी हूँ आदरणीय..बेहद शुक्रिया मेरी रचना को मान देने के लिए।

      Delete
  5. जिनकी ख़्वाहिश में गुमगश्ता हुये
    उस राजा की कोई और रानी है
    रात कटती है यूँ रोते च़रागों की
    ज्यों बाती ने ख़ुदकुशी की ठानी है!!!
    क्या बात है प्रिय श्वेता ! नये मिजाज़ के शेर मन को छू गये | मेरी ढेरों शुभकामनायें और प्यार |

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत आभारी हूँ दी...दिल.से बहुत शुक्रिया आपका।

      Delete
  6. Replies
    1. आभारी हूँ अर्चना जी..शुक्रिया आपका।

      Delete
  7. बहुत खूब.....,मर्मस्पर्शी ...,अत्यन्त सुन्दर ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बैहद आभारी हूँ मीना झी..सस्नेह बहुत शुक्रिया आपका।

      Delete
  8. आहाहा ...जिंदाबाद

    जज्बात जज़्बात और केवल जज़्बात
    बेहद आला दर्जे की गजल हुई ये।

    बदजुबानी का बेहतरी इस्तेमाल हुआ है

    ग़ालिब के चंद शेर याद आये आपकी गजल पढ़ कर कि

    दिले नादां तुझे हुआ क्या है आखिर इस दर्द की दवा क्या है
    हमको उनसे उफा की है उम्मीद जो नहीं जानते है वफ़ा क्या है।

    फिर तेरे कूचे को जाता है ख्याल
    दिले गुमगस्ता मगर याद आया।

    खुश रहें स्वस्थ रहें।
    लिखते रहें।

    ReplyDelete
    Replies
    1. रोहित जी आपकी विस्तृत विश्लेषात्मक प्रतिक्रिया सदैव.विशेष होती है।
      बहुत सुंदर शेर लिखा है आपने

      फिर तेरे कूचे को जाता है ख्याल
      दिले गुमगस्ता मगर याद आया।
      वाह्ह्ह👌
      आभारी हूँ...बेहद शुक्रिया आपका।

      Delete
  9. आपकी लिखी रचना "मुखरित मौन में" शनिवार 12 जनवरी 2019को साझा की गई है......... https://mannkepaankhi.blogspot.com/ पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. बेहद आभारी हूँ दी...दिल से बहुत शुक्रिया।

      Delete
  10. यूँ ही दिल ने चाहा था, रोना रुलाना
    तेरी याद तो बन गई एक बहाना....बहुत खूब:)

    ReplyDelete
    Replies
    1. वाह्ह्ह.. बहुत खूब 👌👌
      आभारी हूँ संजय जी..बेहद.शुक्रिया आपका।

      Delete
  11. वाह! वाह!! और सिर्फ वाह!!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभार आभार और बहुत सारा आभार आपका विश्वमोहन जी...हृदयतल से बहुत शुक्रिया।

      Delete
  12. श्वेता जी,
    बहुत सुंदर.

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी आभारी हूँ सर...आपका आशीष मिला...बहुत शुक्रिया।

      Delete
  13. वाह!!वाह!!श्वेता ,बहुत खूब!!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभारी हूँ शुभा दी...बेहद शुक्रिया आपका।

      Delete
  14. जिनकी ख़्वाहिश में गुमगश्ता हुये
    उस राजा की कोई और रानी है...
    श्वेता, टूटे दिल की व्यथा बहुत ही खुबसुरत शब्दों में बयां की आपने।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभारी हूँ आधरणीया ज्योति जी..बहुत शुक्रिया आपका।स्नेह बना रहे।

      Delete
  15. Very good ....., touching ..., very beautiful. The words of the new mood touched the mind. My best wishes.

    ReplyDelete
    Replies
    1. Thanku so much chandra...Thanks for all ur precious wishes.

      Delete
  16. बेहया दिल टूटकर भी धड़कता है
    ज़िंदा लाशों की ये तो बदज़ुबानी है.....
    वाह!!! बहुत खूब... सखी लाजबाब

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत आभारी हूँ कामिनी जी...बेहद शुक्रिया आपका।

      Delete
  17. वाह !श्वेता जी बहुत ख़ूब 👌
    सादर

    ReplyDelete
    Replies
    1. बेहद आभारी हूँ अनिता जी...सनेह शुक्रिया आपका।

      Delete
  18. इश्क ने जहाँ भर की ख़ाक छानी है ...
    वाह ... हर शेर बहुत ही कमाल का है ... बाखूबी अंजाम दिया है इस ग़ज़ल को ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. बेहद आभारी हूँ नासवा जी...बहुत शुक्रिया आपका।

      Delete
  19. जिनकी ख़्वाहिश में गुमगश्ता हुये
    उस राजा की कोई और रानी है

    बेहतरीन अशआर,
    शब्दो का दिलकश इस्तेमाल किया हैं भावनाये व्यक्त करने के लिये।

    ReplyDelete
    Replies
    1. सादर आभार डॉ.साहब...बहुत शुक्रिया आपका।

      Delete
  20. बेहया दिल टूटकर भी धड़कता है
    ज़िंदा लाशों की ये तो बदज़ुबानी है

    बहुतों की यही कहानी है, फिर भी आगे जिंदगानी है..!
    हर शब्द में जान है, भावनाओं से लबरेज है,दिल को छू गया।
    बस अब और शब्द नहीं है मेरे पास ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बेहद आभारी हूँ शशि जी..आपकी सुंदर प्रतिक्रिया के लिए बहुत बहुत शुक्रिया। स्नेहाशीष बनाये रखें।

      Delete
  21. जिनकी ख़्वाहिश में गुमगश्ता हुये
    उस राजा की कोई और रानी है.....मर्मभेदी .....लाजवाब ....

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभारी हूँ रवींद्र जी...बेहद शुक्रिया आपका।

      Delete

ब्लॉग की सालगिरह.... चाँद की किरणें

सालभर बीत गये कैसे...पता ही नहीं चला। हाँ, आज ही के दिन १६फरवरी२०१७ को पहली बार ब्लॉग पर लिखना शुरु किये थे। कुछ पता नहीं था ब्लॉग के बा...

आपकी पसंद