Saturday, 12 January 2019

शब्द


मौन हृदय के आसमान पर
जब भावों के उड़ते पाखी,
चुगते एक-एक मोती मन का 
फिर कूजते बनकर शब्द।

कहने को तो कुछ भी कह लो
न कहना जो दिल को दुखाय,
शब्द ही मान है,शब्द अपमान
चाँदनी,धूप और छाँव सरीखे शब्द।

न कथ्य, न गीत और हँसी निशब्द
रूंधे कंठ प्रिय को न कह पाये मीत,
पीकर हृदय की वेदना मन ही मन 
झकझोर दे संकेत में बहते शब्द।

कहने वाले तो कह जाते है 
रहते उलझे मन के धागों से,
कभी टीसते कभी मोहते 
साथ न छोड़े बोले-अबोले शब्द।

फूल और काँटे,हृदय भी बाँटे
हीरक,मोती,मानिक,माटी,धूल,
कौन है सस्ता,कौन है मँहगा
मानुष की कीमत बतलाते शब्द।

    #श्वेता सिन्हा
    (अक्षय गौरव पत्रिका में प्रकाशित मेरी लिखी एक रचना)



15 comments:

  1. शब्दों के प्रभाव का प्रभावशाली अंकन । अपरम्पार हैं इनकी महिमा ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपकी त्वरित प्रतिक्रिया के लिए हृदयतल से बहुत आभारी हूँ मीना जी।सस्नेह शुक्रिया बहुत सारा।

      Delete
  2. Very beautiful words, Imagine the imaginative imagery of the imagination, the beautiful scenery of the spectacular picture depicting expression. Great. Waah waah.

    ReplyDelete
    Replies
    1. Thanku thanku thanku so much chandra...Ur all apprication and support are very special.
      Tthanks.

      Delete
  3. श्वेता जी शब्दों की महिमा का क्या सुंदर गुणगान किया आपने ....बहुत खूब ।

    ReplyDelete
  4. शब्दश: सत्य महिमा - शब्दों का, शब्दों के लिए और सुंदर शब्दों द्वारा।

    ReplyDelete
  5. रूंधे कंठ प्रिय को न कह पाये मीत,

    वाह प्रिय को मीत भी न कह पाये क्या खूब विवशता हैं।शानदार लेखन।
    प्रकाशन के लिये बहुत बहुत बधाई।

    ReplyDelete
  6. आपकी लिखी रचना "मित्र मंडली" में लिंक की गई है. https://rakeshkirachanay.blogspot.com/2019/01/104.html पर आप सादर आमंत्रित हैं ....धन्यवाद!

    ReplyDelete
  7. सुन्दर रचना श्वेता जी
    सादर

    ReplyDelete
  8. वाहह..शब्दों की महीमा अपरम्पार..
    सुंदर लेखन..

    ReplyDelete
  9. कौन है सस्ता,कौन है मँहगा
    मानुष की कीमत बतलाते शब्द,बहुत खूब.... स्वेता जी

    ReplyDelete
  10. शब्द ....
    चुप होते हैं ... मौन होते हैं ... बे आवाज़ होते हैं ...
    पर कितना प्रभाव छोड़ जाते हैं ... दूर तक भेद जाते हैं ... खुश कर जाते हैं दर्द तो सुकून दे जाते हैं ... निराले शब्द ...
    लाजवाब बाँधा है शब्दों में शब्द को ...

    ReplyDelete
  11. न कथ्य, न गीत और हँसी निशब्द
    रूंधे कंठ प्रिय को न कह पाये मीत,
    पीकर हृदय की वेदना मन ही मन
    झकझोर दे संकेत में बहते शब्द...
    बेहतरीन लेखन हेतु असीम शुभकामनाएं आदरणीय श्वेता जी।

    ReplyDelete
  12. वाह श्वेता लाजवाब बहुत ही सुंदर आंकलन मौन का और शब्द का।
    मौन बेजुबान कितना बोलता है
    कभी जहर कभी रस तोलता है।
    अप्रतिम।

    ReplyDelete

ब्लॉग की सालगिरह.... चाँद की किरणें

सालभर बीत गये कैसे...पता ही नहीं चला। हाँ, आज ही के दिन १६फरवरी२०१७ को पहली बार ब्लॉग पर लिखना शुरु किये थे। कुछ पता नहीं था ब्लॉग के बा...

आपकी पसंद