Friday, 9 April 2021

तुम्हारा मन


निर्लज्ज निमग्न होकर मन
देता है तुम्हें मूक निमंत्रण
और तुम निर्विकार,शब्द प्रहारकर
झटक जाते हो प्रेम अनदेखा कर
जब तुम्हारा मन नहीं होता...।

घनीभूत आसक्ति में डूबा
अपनी मर्यादा भूल
प्रणय निवेदन करता मन 
तुम्हारे  दर्शन बखान पर
अपनी दुर्बलताओं के भान पर
लजाकर सोचता है
तुम कितने निर्मोही हो जाते हो
जब तुम्हारा मन नहीं होता...।

मेरी आत्मीयता के विस्तार पर
तुम झट से खींच देते हो लक्ष्मण रेखा
मेरे सारे प्रश्नों को विकल,
अनुत्तरित छोड़ चले जाते हो
जब तुम्हारा मन नहीं होता...।

तुम्हारा सानिध्य आत्मिक सुख है
परंतु,तुम्हारे प्रेम के लिए सुपात्र नहीं मैं
अपनी अपात्रता पर ख़ुद ही खीझती हूँ
तुम्हारे अबोलेपन पर भी रीझती हूँ
तुम्हारे एहसास में अकेली ही भींजती हूँ
जब तुम्हारा मन नहीं होता...।

#श्वेता सिन्हा


 

21 comments:

  1. मेरी आत्मीयता के विस्तार पर
    तुम झट से खींच देते हो लक्ष्मण रेखा
    मेरे सारे प्रश्नों को विकल,
    अनुत्तरित छोड़ चले जाते हो
    जब तुम्हारा मन नहीं होता...।
    प्रिय श्वेता, अनुभूतियों के धरातल पर
    नारी मन के शाश्वत भावों को कितनी सहजता से, किसी निर्मोही को उद्बोधन के रूप में आकार
    देकर समेट लिया तुमने। पौरुष के दर्प और मनमानी की अभेद्य दीवार से उलझते विकल मन की अनकही दास्ताँ लिख दी है तुमने, जिसके आगे नारी हीनता के गर्त में डुबो खुद को प्रेम का सुपात्र नहीं समझती। प्रेमिल अनुभूतियों मेंआकंठ निमग्न मन की करुण कथा के लिए हार्दिक शुभकामनाएं और प्यार 🙏🙏🌹🌹

    ReplyDelete
    Replies
    1. This comment has been removed by the author.

      Delete
  2. एक अनोखी सी रचना है यह मेरे लिए चूँकि मैं एक पुरुष हूँ अतः इसकी गहराई समझ भी सकता हूँ।
    एक नारी की मनोभावना की गहनता और उसकी विवशता की यह दशा, सच में हृदयविदारक है।
    वो महज एक शरीर नहीं, एक निर्मल मन भी है। महज नश्वर शरीर से प्रेम, प्रेम नहीं हो सकता।
    आपकी यह रचना, नारी मन की कई दिशाओं व दशाओं का प्रतिनिधित्व कर रही है।
    साधुवाद। बहुत-बहुत शुभकामनाएँ आदरणीया श्वेता जी।

    ReplyDelete
  3. बहुत अच्छी रचना। कुछ सोचने, कुछ समझने और कुछ महसूस करने की ओर ले जाती।

    ReplyDelete
  4. आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल रविवार (11-04-2021) को   "आदमी के डसे का नही मन्त्र है"  (चर्चा अंक-4033)    पर भी होगी। 
    -- 
    सत्य कहूँ तो हम चर्चाकार भी बहुत उदार होते हैं। उनकी पोस्ट का लिंक भी चर्चा में ले लेते हैं, जो कभी चर्चामंच पर झाँकने भी नहीं आते हैं। कमेंट करना तो बहुत दूर की बात है उनके लिए। लेकिन फिर भी उनके लिए तो धन्यवाद बनता ही है निस्वार्थभाव से चर्चा मंच पर टिप्पी करते हैं।
    --  
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।    
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ-    
    --
    सादर...! 
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' 
    --

    ReplyDelete
  5. आपकी लिखी रचना ब्लॉग "पांच लिंकों का आनन्द" रविवार 11 अप्रैल 2021 को साझा की गयी है.............. पाँच लिंकों का आनन्द पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
  6. आज इस रचना में तुमने शायद हर नारी के मन की कभी न कभी उठने वाली पीड़ा को रेखांकित कर दिया है ।
    मूक निमंत्रण में भी नारी ही लज्जा का भान कर सकती है और पुरुष द्वारा अनदेखा कर देना जैसे उसके अस्तित्व को ही नकार देना ।
    पुरुष केवल अपने मन की सुनता है , नारी हृदय की थाह नही पाता , क्यों कि नारी की भाषा तो केवल उसके नैन हैं या उसका मन है या फिर आत्मीयता है , । अंतिम पंक्तियाँ प्रेम की पराकाष्ठा प्रदर्शित कर रही हैं ----

    अपनी अपात्रता पर ख़ुद ही खीझती हूँ
    तुम्हारे अबोलेपन पर भी रीझती हूँ
    तुम्हारे एहसास में अकेली ही भींजती हूँ
    जब तुम्हारा मन नहीं होता...।
    इस कविता पर क्या न न्योछावर कर दूँ ? अनंत शुभकामनाएँ , यूँ ही लिखती रहो रचना संसार ।

    ReplyDelete
  7. नारी मन की नम संवेदनाओं को बहुत ही सुंदर तरीक़े से रच दी आपने। हर पंक्तियाँ भीगों रही।
    बधाई।

    ReplyDelete
  8. नारी ही नहीं बल्कि सृष्टि, प्रकृति, धरती सबकी कथा को स्वर दे दिया है । अनकहा स्वर जो हृदयस्पर्शी है ।
    और हाँ ! चोट पर आपने जो कहा, मेरी भी आँखे नम हो आईं । पर शब्द खो गये ।

    ReplyDelete
  9. हर स्त्री के मन की व्यथा बखूबी बया कर दी आपने
    पढ़ कर मेरी आंख भर आई सच हम स्त्रियाँ कितनी भावुक हो जाती हैं पर पुरुष मन समझने की कोशिश भी नहीं करता है

    ReplyDelete
  10. बहुत सुंदर भावों की अविरल अभिव्यक्ति,प्रिय श्वेता जी शायद ही कोई स्त्री हो जो इस अकथनीय वेदना से न गुजरी हो, हां कहने में कुछ गुरेज हो सकता है,पर ये है अटूट सत्य है,जिसे आपकी लेखनी ने बखूबी बयान कर दिया,सुंदर सृजन के लिए हार्दिक शुभकामनाएं एवम नमन ।

    ReplyDelete
  11. मन के उस कोमल भावनाओं को बेहद सुंदर ढंग से बयान किया है, बहुत खूब

    ReplyDelete
  12. प्रेम के वास्तविक सच को व्यक्त करती
    कमाल की रचना
    बहुत बधाई

    ReplyDelete
  13. A good informative post that you have shared and thankful your work for sharing the information. I appreciate your efforts. this is a really awesome and i hope in future you will share information like this with us. Please read mine as well. truth of life quotes

    ReplyDelete
  14. बेहतरीन रचना सखी

    ReplyDelete
  15. बेहद खूबसूरत रचना, सच को उजागर करती हुई, सादर नमन हार्दिक शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  16. मेरी आत्मीयता के विस्तार पर
    तुम झट से खींच देते हो लक्ष्मण रेखा
    मेरे सारे प्रश्नों को विकल,
    अनुत्तरित छोड़ चले जाते हो
    जब तुम्हारा मन नहीं होता...।
    वाह!!!
    हर स्त्री मन के अनकहे से भावों को शब्द दिये हैं आपने...मन मर्जी का मालिक पुरुष जहाँ प्रथम आसक्ति में हमेशा अग्रणी रहता है वहीं प्रेम सफर में अपने ही प्रेम को ऐसा तिरस्कृत करता है कि प्रेम स्वयं को अपात्र मानने लगे...।
    स्त्री मन की वेदना को बखूबी उजागर करती उत्कृष्ट रचना।

    ReplyDelete
  17. नारी-मन की गहन वेदना. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति, बधाई.

    ReplyDelete
  18. मन के भावों की सशक्त अभिव्यक्ति। बधाई।

    ReplyDelete
  19. अनुत्तरित प्रेम की सुन्दर अभिव्यक्ति

    ReplyDelete

आपकी लिखी प्रतिक्रियाएँ मेरी लेखनी की ऊर्जा है।

शुक्रिया।

मैं से मोक्ष...बुद्ध

मैं  नित्य सुनती हूँ कराह वृद्धों और रोगियों की, निरंतर देखती हूँ अनगिनत जलती चिताएँ परंतु नहीं होता  मेरा हृदयपरिवर...