Tuesday, 17 October 2017

दीवाली

1)
लड़ियाँ नेह के धागों वाली,
झड़ियाँ हँसी ठहाकों वाली।

जगमग घर का कोना-कोना,
कलियाँ मन के तारों वाली।

रंग-रंगीली सजी रंगोली,
गुझिया मीठे पागों वाली।

घर-आँगन दमके चौबारा,
गलियाँ अल्हड़ साजों वाली।

एक दीवाली दिल को जोड़े,
खुशियाँ दिल के रागों वाली।

पूजन मात-पिता के प्रेम का
सखियाँ बहना भाबो वाली।

दीप जला ले प्रेमिल मन से,
बतियाँ हृदय के तागों वाली।

-----
2)
इतराई निशा पहनकर 
झिलमिल दीपक हार
आया है जगमग जगमग
यह दीपों का त्योहार

रंगोली सतरंग सुवासित
बने गेंदा चमेली बंदनवार
किलके बालवृंद घर आँगन
महकी खुशियाँ अपरम्पार

मिट जाये तम जीवन से
लक्ष्मी माँ दे दो वरदान
हर लूँ निर्धनता हर घर से
हर होंठ खिले मुस्कान

भर भरकर मुट्ठी तारों से 
भरना उन बाड़ी बस्ती में
दिन का सूरज भी न पहुँचे
निकले चाँद भी कश्ती में

इस दीवाली बन जाऊँ दीया
फैलूँ प्रकाश बन सपनों की
विहसे मुख मलिन जब किलके
मैं साक्षी बनूँ उन अपनों की

   #श्वेता🍁

26 comments:

  1. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" बुधवार 18 अक्टूबर 2017 को लिंक की गई है.................. http://halchalwith5links.blogspot.com पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. अति आभार दी:))
      तहेदिल से शुक्रिया खूब सारा आपका।

      Delete
  2. Mujhe aapki rachnaye bohot Pasand ayi hai.

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी,बहुत बहुत आभार आपका।ब्लॉग टर स्वागत है आपका।

      Delete
  3. Replies
    1. बहुत बहुत आभार आपका सर।शुक्रिया खूब सारा।

      Delete
  4. Replies
    1. बहुत बहुत आभार आपका विश्वमोहन जी।तहेदिल से शुक्रिया खूब सारा आपका।

      Delete
  5. नमस्ते, आपकी यह प्रस्तुति "पाँच लिंकों का आनंद" ( http://halchalwith5links.blogspot.in ) में गुरूवार 19-10-2017 को प्रातः 4 :00 बजे प्रकाशनार्थ 825 वें अंक में सम्मिलित की गयी है। चर्चा में शामिल होने के लिए आप सादर आमंत्रित हैं, आइयेगा ज़रूर। सधन्यवाद।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार आपका रवींद्र जी।मेरी रचना को मान देने लिए तहेदिल से शुक्रिया आपका।

      Delete
  6. वाह!!!
    बहुत सुन्दर....
    लाजवाब प्रस्तुति

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार आपका सुधा जी।तहेदिल से शुक्रिया खूब सारा।

      Delete
  7. बहुत सुंदर !हार्दिक शुभकामनाएँ !

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार आपका मीना जी।सस्नेह शुक्रिया खूब सारा।

      Delete
  8. बहुत ख़ूब, दीप पर्व की शुभकामनाएँ

    ReplyDelete
    Replies
    1. खूब आभार हिमकर जी,तहेदिल से शुक्रिया आपका।त्योहारों की मंगलकामनाएँ आपको भी।

      Delete
  9. खूबसूरत एहसासों को खूबसूरती से लिखा है....

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार आपका संजय जी।तहेदिल से शुक्रिया खूब सारा।

      Delete
  10. बेहद सुन्दर भाव .बहुत उम्दा लिखती हैं आप .

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार आपका मीना जी।तहेदिल से शुक्रिया आपका।

      Delete
  11. बहुत सुन्दर
    शुभ दीपावली!

    ReplyDelete
    Replies
    1. खूब सारा आभार आपका कविता जी।तहेदिल से शुक्रिया आपका।शुभ दीपावली जी।

      Delete
  12. दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं श्वेता जी
    बहुत सुंदर रचना

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार ऋतु जी,आपको भी दीपोत्सव की हार्दिक शुभकामनाएँ जी।

      Delete
  13. बहुत सुंदर रचना । आपको एवं आपके पूरे परिवार को दीपपर्व की हार्दिक शुभकामनाएँ ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार आपका मीना जी।
      दीपोत्सव की हार्दिक मंगलकामनाएँ आपके एवं समस्त परिवार के लिए।सप्रेम।
      स्वीकार करें।

      Delete

ब्लॉग की सालगिरह.... चाँद की किरणें

सालभर बीत गये कैसे...पता ही नहीं चला। हाँ, आज ही के दिन १६फरवरी२०१७ को पहली बार ब्लॉग पर लिखना शुरु किये थे। कुछ पता नहीं था ब्लॉग के बा...

आपकी पसंद