Wednesday, 18 October 2017

शहीद....हायकु

हमारे लिए
दीवार बने खड़े
वीर जवान

बुझा दीपक
शहीद के घर में
कैसी दिवाली

जला के दीप
शहीदों के नाम पे
सम्मान देना

माँ बाबू रोये
अंधियारा छाया है
अँगना आज

भींगी रंगोली
अँसुवन की धार 
जीवन सूना

वीर शहीद
तारे बन चमके
दीवाली रात

मातृभूमि का
हृदय से मान ही 
श्रद्धांजलि है


26 comments:

  1. बेहतरीन हाईकू
    सादर

    ReplyDelete
  2. Replies
    1. बहुत बहुत आभार एवं तहेदिल से शुक्रिया आपका विश्वमोहन जी।

      Delete
  3. वीर शहीद
    तारे बन चमके
    दीवाली रात

    मातृभूमि का
    हृदय से मान ही
    श्रद्धांजलि है। बहुत ही सुंदर दिल को छूती रचना स्वेता।
    दीवाली की आपको एवं आपके पूरे परिवार को बहुत बहुत शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार आपका ज्योति जी,तहेदिल से शुक्रिया आपका।आपको भी सपरिवार दीवाली की शुभकामनाएँ जी। सप्रेम।

      Delete
  4. वीर शहीद
    तारे बन चमके
    दीवाली रात.... बहुत सुदर , स्वेता जी ... आपको सपरिवार दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं - वंदना बाजपेयी

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार आपका वंदना जी।दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएँ आपको भी वंदना जी।

      Delete
  5. बेहतरीन हाइकु . दीपावली की हार्दिक शुभ कामनाएँ .

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार आपका मीना जी,तहेदिल से शुक्रिया आपका।दीपोत्सव की ढेर सारी शुभकामनाएँ आपको।

      Delete
  6. बहुत सुंदर हायकू.
    दीपोत्सव की मंगल कामनाएं !

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार आपका राजीव जी।तहेदिल से शुक्रिया।दीपोत्सव की हार्दिक शुभकामनाएँ आपको भी।

      Delete
  7. वाह!!!
    लाजवाब हायकू....

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार आपका सुधा जी।तहेदिल से शुक्रिया आपका।

      Delete
  8. वीर शहीद
    तारे बन चमके
    दीवाली रात
    .....बेहतरीन हाइकु स्वेता जी गोवर्घन पूजा की शुभ कामनाएँ

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार आपका,तहेदिल से शुक्रिया आपका संजय जी।
      त्योहारों की खूब सारी शुभकामनाएँ आपको भी:)

      Delete
  9. आपकी लिखी रचना "मित्र मंडली" में लिंक की गई है https://rakeshkirachanay.blogspot.in/2017/10/40.html पर आप सादर आमंत्रित हैं ....धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. अति आभार आपका आदरणीय राकेश जी।रचना को मान देने के लिए हृदय से अति आभार।

      Delete
  10. मर्मस्पर्शी रचना
    सच जिसके घर का चिराग बुझा हो वहां कैसी दिवाली

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार कविता जी तहेदिल से शुक्रिया आपका।सही कहा आपने बिल्कुल।

      Delete
  11. Replies
    1. बहुत बहुत आभार आपका सर।

      Delete
  12. शहीदों को नमन करते हुये बहुत सुन्दर हाइकू।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार आदरणीय।

      Delete
  13. कम शब्दों में बहुत कुछ कहती रचनायें

    ReplyDelete
  14. सभी हाइकू नमन हैं वीर सैनिकों को ... कितना कुछ बोलते छोटे शब्द ...

    ReplyDelete

ब्लॉग की सालगिरह.... चाँद की किरणें

सालभर बीत गये कैसे...पता ही नहीं चला। हाँ, आज ही के दिन १६फरवरी२०१७ को पहली बार ब्लॉग पर लिखना शुरु किये थे। कुछ पता नहीं था ब्लॉग के बा...

आपकी पसंद