Tuesday, 24 October 2017

शब्द हो गये मौन

शब्द हो गये मौन सारे
भाव नयन से लगे टपकने,
अस्थिर चित बेजान देह में
मन पंछी बन लगा भटकने।

साँझ क्षितिज पर रोती किरणें
रेत पे बिखरी मीन पियासी,
कुछ भी सुने न हृदय है बेकल
धुंधली राह न टोह जरा सी।

रूठा चंदा बात करे न
स्याह नभ ने झटके सब तारे,
लुकछिप जुगनू बैठे झुरमुट
बिखरे स्वप्न के मोती खारे।

कौन से जाने शब्द गढ़ूँ मैं
तू मुस्काये पुष्प झरे फिर,
किन नयनों से तुझे निहारूँ
नेह के प्याले मधु भरे फिर।

तुम बिन जीवन मरूस्थल
अमित प्रीत तुम घट अमृत,
एक बूँद चख कर बौराऊँ
तुम यथार्थ बस जग ये भ्रमित।

    #श्वेता🍁

24 comments:

  1. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" बुधवार 25 अक्टूबर 2017 को लिंक की गई है.................. http://halchalwith5links.blogspot.com पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. अति आभार आपका दी।मेरी रचना को मान देने के लिए तहेदिल से शुक्रिया।

      सादर।

      Delete
  2. लाजवाब....
    बहुत ही सुन्दर, अविस्मरणीय प्रस्तुति ।
    किन नयनो से तुझे निहारूँ
    नेह के प्याले मधु भरे फिर...
    वाह!!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार आपका सुधा जी,आपसे इतनी सुंदर प्रतिक्रिया पाना बहुत सुखद है।कृपया नेह बनाये रखे।

      Delete
  3. सुंदर! सही में " शब्द हो गए मौन " !

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार आपका विश्वमोहन जी।

      Delete
  4. वाह !
    बेकल व्यथित मन की कश्मकश और प्रिय का स्मरण करती विछोह में डूबी नायिका के नज़ाकत भरे मनोभावों को ख़ूब परवाज़ दिए हैं। हृदयस्पर्शी रचना। बधाई एवं शुभकामनाऐं।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार आपका रवींद्र जी।तहेदिल से बहुत शुक्रिया।

      Delete
  5. मन के कोमल भाव और सुंदर शब्द शिल्प !!!!!!!!!!! समर्पण का चरम छूती अप्रितम रचना प्रिय श्वेता जी | और अंतिम चार पंक्तियाँ के तो क्या कहने --------------


    तुम बिन जीवन मरूस्थल
    अमित प्रीत तुम घट अमृत,
    एक बूँद चख कर बौराऊँ
    तुम यथार्थ बस जग ये भ्रमित।
    बहुत सुंदर !!!!!!!!! सचमुच जब इन्सान प्रेम में आकंठ डूबा हो तो दुनिया भ्रमित और प्रियतम ही एकमात्र यथार्थ नजर आता है | सस्नेह शुभकामना आपको |










    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत बहुत आभार आपका प्रिय रेणु जी।आपकी विस्तृत प्रतिक्रिया मन को आहृलादित कर जाती है।तहेदिल से शुक्रिया।

      Delete
  6. प्रेम की अनेक अभिव्यक्तियों में से एक मौन अभिव्यक्ति भी है । वाणी के मौन होते ही नयन बोलने लगे, मन भटककर जाने कहाँ से कहाँ पहुँच गया....
    बहुत सुंदर अभिव्यक्ति ! वियोग वेदना को मुखर करती हुई...बधाई श्वेताजी ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार मीना जी।तहेदिल से शुक्रिया जी।

      Delete
  7. Replies
    1. बहुत बहुत आभार आपका सर।

      Delete
  8. bahot badhiya ....antar man ki pida ko kya khoob darshaya hai

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार नीतू जी। तहेदिल से शुक्रिया।

      Delete
  9. बहुत सुन्दर।

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी बहुत आभार आपका ध्रुव जी।

      Delete
  10. बहुत खूबसूरत भाव संयोजन .

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार आपका मीना जी।तहेदिल से शुक्रिया।

      Delete
  11. तुम बिन जीवन मरुस्थल
    अमित प्रीत तुम घट अमृत....अति सुंदर

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार आपका शकुंतला जी।तहेदिल से शुक्रिया आपका।

      Delete
  12. मन के भावों को व्यक्त करती उम्दा रचना

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार आपका लोकेश जी।

      Delete

ब्लॉग की सालगिरह.... चाँद की किरणें

सालभर बीत गये कैसे...पता ही नहीं चला। हाँ, आज ही के दिन १६फरवरी२०१७ को पहली बार ब्लॉग पर लिखना शुरु किये थे। कुछ पता नहीं था ब्लॉग के बा...

आपकी पसंद