Friday, 8 February 2019

बूँदभर गंगाजल

मौन के
सूक्ष्म तंतुओं से 
अनवरत
रिसता, टीसता,भीगता
असहज,असह्य
भाव 
उलझकर खोल की
कठोर ,शून्य दीवारों में
बेआवाज़ कराहता,
घुटता,ताकता है
रह-रहकर,
झिर्रियों से झाँकता
मुक्ति के लिए
छटपटाता मन
बूँदभर गंगाजल
की आस में

#श्वेता सिन्हा

7 comments:

  1. आकुलता की आहट को समेटती कविता!

    ReplyDelete
  2. मन की अकुलाहट अपना गंतव्य पाने को तरसती है ...
    एक बूँद की आस ... गंगा जल की प्यास जो रहती है बाकी ... अच्छी रचना ...

    ReplyDelete
  3. Waah shweta ji...bahut khoob 👌👌👌

    ReplyDelete
  4. गहरी बात...
    कई बार पढ़कर कुछ मर्म समझ आता हैं,
    या हर बार नया भाव आता हैं।

    ReplyDelete
  5. आपकी लिखी रचना "मित्र मंडली" में लिंक की गई है. https://rakeshkirachanay.blogspot.com/2019/02/108.html पर आप सादर आमंत्रित हैं ....धन्यवाद!

    ReplyDelete
  6. विरह वेदना और अकुलाहट से भरी रचना प्रिय श्वेता | शुभकामनायें और मेरा प्यार |

    ReplyDelete
  7. सुन्दर लेखन, संवेदनाओं को त्वरित करा गई ।बहुत-बहुत बधाई ।

    ReplyDelete

ब्लॉग की सालगिरह.... चाँद की किरणें

सालभर बीत गये कैसे...पता ही नहीं चला। हाँ, आज ही के दिन १६फरवरी२०१७ को पहली बार ब्लॉग पर लिखना शुरु किये थे। कुछ पता नहीं था ब्लॉग के बा...

आपकी पसंद