Wednesday, 4 October 2017

आँख के आँसू छुपाकर


आँख के आँसू छुपाकर
मीठी नदी की धार लिखना,
घोंटकर के रूदन कंठ में
खुशियों का ही सार लिखना।

सूखते सपनों के बिचड़े
रोपकर मुस्कान लिखना,
लूटते अस्मत को ढककर
बातों के आख्यान लिखना,
बुझ गये चूल्हों पर लोटते
बदन के अंगार लिखना।

कब्र बने खेतों की माटी में
लहलहाते फसल लिखना,
कटते वन पेड़ों के ठूँठों पर
खिलखिलाती गज़ल लिखना,
वनपखेरू बींधते आखेटकों का
प्रकृति से अभिसार लिखना।

दूधमुँहों से छीनी क्षीर पर
दान,गर्व का स्पर्श लिखना,
लथपथे जिस्मों के खूं पर
राष्ट्र का उत्कर्ष लिखना,
गोलियों से छलनी बदन पर
रूपयों की बौछार लिखना।

देशभक्त कहलवाना है तो
न कोई तुम अधिकार लिखना,
न भूलकर लिखना दर्द तुम
न वोटों का व्यापार लिखना,
फटे जेब में सपने भरे हो
उस देश का त्योहार लिखना।

      #श्वेता🍁

14 comments:

  1. वाह....
    फटे जेब में सपने भरे हो
    उस देश का त्योहार लिखना।
    क्या बात है....
    सादर

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी,आभार दी खूब सारा:)
      तहेदिल से शुक्रिया।
      सादर

      Delete
  2. बहुत ही सुंदर रचना
    हर बंध लाजवाब

    ReplyDelete
  3. शुष्क-शब्द-सैकत-सिक्त, भावों की मरुभूमि में,
    तुषार-हार-धवला यूँ, कविता की रसधार लिखना!....संदर! बहुत सुन्दर!!!

    ReplyDelete
  4. कब्र बने खेतों की माटी में
    लहलहाते फसल लिखना,
    कटते वन पेड़ों के ठूँठों पर
    खिलखिलाती गज़ल लिखना,
    वनपखेरू बींधते आखेटकों का
    प्रकृति से अभिसार लिखना।--------------- क्या बात है श्वेता जी !!!!!!!!!! बहुत खूब लिखा आपने हमेशा की तरह |

    ReplyDelete
  5. Dil likh diya hai apne is rachna mein.

    ReplyDelete
  6. फटे जेब में सपने भरे हो
    उस देश का त्योहार लिखना।
    बहुत ही सुंदर रचना, स्वेता।

    ReplyDelete
  7. कटते वन पेड़ों के ठूँठों पर
    खिलखिलाती गज़ल लिखना,
    वनपखेरू बींधते आखेटकों का
    प्रकृति से अभिसार लिखना....
    आपका संवेदनशील मन हर उस जगह पहुँच जाता है जहाँ संवेदनाएँ रूदन कर रही हों....पाषाण सी कठोर वेदनाओं को शब्दसुमनों में बदलने की सामर्थ्य रखती है आपकी लेखनी....

    ReplyDelete
  8. वाह!क्या कमाल की रचना है. बेहद प्रभावशाली.

    ReplyDelete
  9. कटते वन पेड़ों के ठूँठों पर
    खिलखिलाती गज़ल लिखना,
    वनपखेरू बींधते आखेटकों का
    प्रकृति से अभिसार लिखना।..

    वाह। जुदा विषय। जुदा अंदाज़। जुदा तब्सिरा। गहन चिंतन श्वेता जी

    ReplyDelete
  10. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" रविवार 08 अक्टूबर 2017 को लिंक की गई है.................. http://halchalwith5links.blogspot.com पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
  11. हरेक बंद में जीवन की परिस्थितियों को तल्ख़ी के साथ विचारोत्तेजक रचना में तब्दील किया है। अंतिम बंद तो ख़ास बन पड़ा है। कहीं व्यंग-मिश्रित छिड़की है तो कहीं वेदना की पराकाष्ठा को अभिव्यक्त करते भाव। मर्मस्पर्शी सृजन। लिखते रहिये। बधाई एवं शुभकामनाऐं।

    ReplyDelete

ब्लॉग की सालगिरह.... चाँद की किरणें

सालभर बीत गये कैसे...पता ही नहीं चला। हाँ, आज ही के दिन १६फरवरी२०१७ को पहली बार ब्लॉग पर लिखना शुरु किये थे। कुछ पता नहीं था ब्लॉग के बा...

आपकी पसंद