Thursday, 16 November 2017

ख्याल


साँझ की
गुलाबी आँखों में,
डूबती,फीकी रेशमी
डोरियों के
सिंदूरी गुच्छे,
क्षितिज के कोने के
स्याह कजरौटे में
समाने लगे,
दूर तक पसरी
ख़ामोशी की साँस,
जेहन में ध्वनित हो,
एक ही तस्वीर
उकेरती है,
जितना  झटकूँ
उलझती है
फिसलती है आकर
पलकों की राहदारी में
ख्याल बनकर।

24 comments:

  1. सांझ की गुलाबी आँखें......
    वाह!!!
    स्याह कजरौटे में....
    अद्भुत शब्द संयोजन
    बहुत ही सुन्दर ख्याल....

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार सुधा जी,तहेदिल से शुक्रिया खूब सारा।

      Delete
  2. जेहन में ध्वनित हो,
    एक ही तस्वीर............बेनजीर! बेनजीर! ! बेनजीर!!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. हृदयतल से अति आभार आपका विश्वमोहन जी।आपकी सराहना ऊर्जा से भर देती है।

      Delete
  3. अद्भुत शब्दों की चूनर, लाज़वाब

    सादर

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार आपका अपर्णा जी।तहेदिल से शुक्रिया आपका खूब सारा।

      Delete
  4. वाह! बहुत सुंंदर ख्याल..
    बखूबी शब्दों को पिरोया है।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार आपका पम्मी जी,तहेदिल से शुक्रिया आपका।

      Delete
  5. सच में कहते हैं हम भी वाह...
    खयाल रखिएगा
    सादर

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपके अतुल्य स्नेह से मन अभिभूत है दी।

      Delete
  6. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" रविवार 19 नवम्बर 2017 को साझा की गई है.................. http://halchalwith5links.blogspot.com पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार आपका दी:)
      तहेदिल से शुक्रिया।

      Delete
  7. Replies
    1. बहुत बहुत आभार आपका मीना जी।तहेदिल से शुक्रिया।

      Delete
  8. बहुत खूब........

    रचना पढ़ते वक़्त उन ख्यालों में खो जाने का मन करता है..

    तेरे ख्यालों के ख्यालों में इस कदर खोई,
    जैसे खोजी है ख्यालों की दुनिया कोई,

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपकी सुंदर प्रतिक्रिया का अति आभार आपका प्रिय नीतू जी। तहेदिल से शुक्रिया आपका सस्नेह।

      Delete
  9. उम्दा ख़याल
    शानदार रचना

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार शुक्रिया आपका लोकेश जी।

      Delete
  10. Replies
    1. बहुत बहुत आभार आपका ध्रुव जी।

      Delete
  11. Replies
    1. बहुत बहुत आभार आपका सर।

      Delete
  12. Replies
    1. बहुत बहुत आभार आपका आदरणीया, ब्लॉग पर आपका स्वागत है।तहेदिल से शुक्रिया।

      Delete

आपकी लिखी प्रतिक्रियाएँ मेरी लेखनी की ऊर्जा है।

शुक्रिया।

मैं से मोक्ष...बुद्ध

मैं  नित्य सुनती हूँ कराह वृद्धों और रोगियों की, निरंतर देखती हूँ अनगिनत जलती चिताएँ परंतु नहीं होता  मेरा हृदयपरिवर...