Friday, 4 October 2019

प्रभाव..एक सच


देश-दुनिया भर की
व्यथित,भयाक्रांत 
विचारणीय,चर्चित
ख़बरों से बेखबर
समाज की दुर्घटनाओं
अमानवीयता,बर्बरता
से सने मानवीय मूल्यों
को दरकिनार कर,
द्वेष,घृणा,ईष्या की 
ज्वाला में जलते 
पीड़ित मन की
पुकार अनसुना कर
मोड़कर रख देते हैं अख़बार,
बदल देते हैं चैनल..., 
फिर, कुछ ही देर में वैचारिकी
प्रवाह की दिशा बदल जाती है....।
हम यथार्थवादी,
अपना घर,अपना परिवार,
अपने बच्चों की छोटी-बड़ी
उलझनों,खुशियों,जरूरतों और 
मुसकानों में पा लेते हैं
सारे जहाँ का स्वार्गिक सुख
हमारी प्राथमिकताएँ ही तय
करती है हमारी संवेदनाओं
का स्तर
क़लम की नोंक रगड़ने से
हमारे स्याही लीपने-पोतने से
बड़े वक्तव्यों से
आक्रोश,उत्तेजना,अफ़सोस 
या संवेदना की भाव-भंगिमा से
नहीं बदला जा सकता है
 किसी का जीवन
बस दर्ज हो जाती है औपचारिकता।

हाँ, पर प्रेम....।
स्वयं से,अपनों से,समाज से 
देश से,प्रकृति से,जीवन से
भरपूर करते हैं
क्योंकि हम जानते हैं 
हमारी प्रेम भरी भावनाओं का
कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा..,
देश-दुनिया के 
वाद-विवाद,संवाद और
राजनीतिक तापमान पर...।

#श्वेता सिन्हा











नोटः अर्चना कुमारी की एक रचना से प्रेरित। सादर

14 comments:

  1. सही लिखा स्वेता जी दिन भर चल रहे न्यूज चैनल
    माना कि सच दिखाना उनका काम है फिर भी एक ही ख़बर को बार-बार देने से किसी के भी मन में उन विचारों का प्रभाव घर कर सकता है ,परंतु हमारी स्व्यम की परस्पर स्नेह की भावना पर कोई प्रभाव नहीं पड़ता चाहिए

    ReplyDelete
  2. हाँ, पर प्रेम....।
    स्वयं से,अपनों से,समाज से
    देश से,प्रकृति से,जीवन से
    भरपूर करते हैं
    क्योंकि हम जानते हैं
    हमारी प्रेम भरी भावनाओं का
    कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा..,
    देश-दुनिया के
    वाद-विवाद,संवाद और
    राजनीतिक तापमान पर...।
    .
    सत्य का यथार्थ वर्णन👏🏻👏🏻👏🏻

    ReplyDelete


  3. जी नमस्ते,

    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शनिवार (0५ -१०-२०१९ ) को "क़ुदरत की कहानी "(चर्चा अंक- ३४७४) पर भी होगी।
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट अक्सर नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    आप भी सादर आमंत्रित है
    ….
    अनीता सैनी

    ReplyDelete
  4. यथार्थ के कठोर सत्य को वर्णित करती सार्थक चिंतन देती रचना।

    ReplyDelete
  5. Very nicely written.. Jawab nahi.....great

    ReplyDelete
  6. समय को साधती शानदार रचना

    ReplyDelete
  7. , पर प्रेम....।
    स्वयं से,अपनों से,समाज से
    देश से,प्रकृति से,जीवन से
    भरपूर करते हैं
    क्योंकि हम जानते हैं
    हमारी प्रेम भरी भावनाओं का
    कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा..,
    देश-दुनिया के
    वाद-विवाद,संवाद और
    राजनीतिक तापमान पर...।

    बहुत खूब श्वेता जी

    प्रेम एक ऐसा भाव है जो इंसान को इंसान बनाए रखता है .

    प्रेम के संबंध में मेने पहली रचना ब्लॉग पर शेयर की है कृपया मेरी पहली रचना  .. पधारें 🙏

    ReplyDelete
  8. ये प्रेम निरंतर बने रहना चाहिए ... देश समाज हर किसी से ...
    और हाँ परिवर्तन जरूर आता है ... कई बात सूक्ष्म होता है पर आता जरूर है ...

    ReplyDelete
  9. उचित कहा आपने आदरणीया दीदी जी
    बहुत खूब। सादर नमन

    ReplyDelete
  10. प्रायः हम अपनी कायरता को अपनी शराफ़त का और अपने अहिंसा-प्रेम का जामा पहना देते हैं और अन्याय का प्रतिकार करने के लिए अपनी कलम चलाकर थोड़ा कागज़ स्याह कर लेते हैं या फिर कोई ओजस्वी भाषण दे लेते हैं. हम यदि दिल से यह चाहते हैं कि दुनिया से अन्याय के आधिपत्य का काम तमाम हो तो हमको तलवार उठाने में भी संकोच नहीं करना चाहिए.

    ReplyDelete
  11. बेहतरीन रचना श्वेता जी

    ReplyDelete
  12. भावना कैसी भी हो इसका किसी पर कितना प्रभाव पड़ पाया है.??
    प्रभाव छोड़ता है कर्म, और कर्म भी वो जो प्रभावशाली हो.
    हम किसी की नाजायज मौत पर या बलात्कार जैसी घटना के विरुद्ध में केवल भाव प्रकट कर देते हैं या और अधिक फैशन दिखाना हो तो इक्कठे होकर मोमबती जला देते है...फिर थोड़ी देर बाद बढिया भात खा कर आराम से सोते हैं.
    हम ठोस कर्म जबतक नहीं करते तब तक कि ऐसी कोई घटना अपनी खुद की ना हो.
    बेहतरीन रचना है...

    मेरी नई पोस्ट पर स्वागत है आपका 👉🏼 ख़ुदा से आगे 

    ReplyDelete

ब्लॉग की सालगिरह.... चाँद की किरणें

सालभर बीत गये कैसे...पता ही नहीं चला। हाँ, आज ही के दिन १६फरवरी२०१७ को पहली बार ब्लॉग पर लिखना शुरु किये थे। कुछ पता नहीं था ब्लॉग के बा...

आपकी पसंद